GREHLAKSHMI

FREE - On Google Play
OPEN

पत्थर फेंककर जाना जाता है कि गर्भ में पल रहा भ्रूण लड़का है या फिर लड़की

संविदा मिश्रा

19th September 2019

जब कोई महिला गर्भवती होती है और जब तक बच्चे का जन्म नहीं हो जाता है तब तक उससे जुड़े सभी लोगों के मन में ये सवाल ज़रूर रहता है कि गर्भ में पल रहा शिशु लड़का है या फिर लड़की। आमतौर पर गर्भ में पल रहे भ्रूण के बारे में पता करने के लिए सोनोग्राफी या फिर अल्ट्रासाउंड का प्रयोग किया जाता है। वैसे हमारे देश में गर्भ में पल रहे शिशु का लिंग पता करना कानूनन अपराध माना जाता है। लेकिन क्या आप जानते हैं एक ऐसे पहाड़ के बारे में जहां पत्थर फेंककर पता चलता है कि गर्भ में पल रहा भ्रूण लड़का है या फिर लड़की ?

पत्थर फेंककर जाना जाता है कि गर्भ में पल रहा भ्रूण लड़का है या फिर लड़की
जी हां  , सुनने में थोड़ा अटपटा जरूर लगता है लेकिन झारखंड के एक गांव में लोग भ्रूण का लिंग जानने के लिए सोनोग्राफी नहीं कराते या फिर किसी डॉक्टर से परामर्श नहीं लेते हैं बल्कि एक पहाड़ से ये बात जानने की कोशिश करते हैं कि गर्भवती स्त्री की कोख में पल रहे भ्रूण का लिंग क्या है ?  यहां ये परंपरा कई  सालों से  चली आ रही है।  दरअसल, झारखंड के लोहरदगा स्थित खुखरा गांव में एक ऐसी पहाड़ी भी है, जो गर्भ में पल रहा शिशु लड़का है या लड़की इस बारे में जानकारी देती है।

क्या है इस प्रथा का इतिहास 

वहां के स्थानीय लोग बताते हैं कि इसके लिए उन्हें किसी भी तरह का धन खर्च नहीं करना पड़ता है।  यह रिवाज वहां  चार सौ साल पहले नागवंशी राजाओं के शासन काल से चला आ रहा है। लोगों के मुताबिक ये पर्वत बीते 400 सालों से लोगों को उनके भविष्य के बारे में जानकारी देता रहा है।  इस पर्वत के प्रति लोगों के अंदर श्रद्धा साफ़ तौर पर देखी जा सकती है।

चांद की आकृति से पता चलता है भ्रूण का लिंग 

लोगों का कहना है कि इस पहाड़ी पर चांद के आकार की आकृति बनी हुई है, जो गर्भ के अंदर शिशु के लिंग के बारे में बताती है।  इस पहाड़ी पर पत्थर मारकर इस बात की जांच की जाती है कि गर्भ में पलने वाला भ्रूण लड़का है या लड़की। इसके लिए गर्भवती महिला एक निश्चित दूरी से पत्थर को इस पहाड़ी पर बने चांद की ओर मारती है। अगर पत्थर चंद्रमा के आकार के ठीक बीच में जाकर लगता है  तो यह समझा जाता है कि गर्भ में लड़का है और अगर वह पत्थर चंद्रमा के बाहर लगे तो माना जाता है कि गर्भ में पल रही लड़की है। 

कमेंट करें

blog comments powered by Disqus

संबंधित आलेख

default

इस वीकेंड कसौली जाएं और लें पहाड़ों की खूबसूरती...

default

जानिए शरद पूर्णिमा का महत्व और पूजन विधि...

default

अब घर में आएगी एक नन्ही परी

default

एक ऐसा मंदिर, जहां भाई-बहनों का प्रवेश है...