GREHLAKSHMI

FREE - On Google Play
OPEN

अगर आप भी खर्राटे लेते हैं ? तो जानें खर्राटों से जुड़े कुछ तथ्य

संविदा मिश्रा

19th September 2019

बहुत से लोग नींद में खर्राटे लेते हैं,आमतौर पर कभी -कभी खर्राटे लेना एक सामान्य बात है। कभी थकान की वजह से या फिर शरीर में कॉलेस्ट्रॉल की मात्रा ज्यादा होने से खर्राटे आने लगते हैं। खर्राटे लेना एक सामान्य स्थिति है, जो किसी को भी प्रभावित कर सकती है, हालांकि यह पुरुषों और अधिक वजन वाले लोगों में ज्यादा होता है। बहुत बार देखा जाता है कि यह समस्या उम्र के साथ बढ़ने लगती है।

अगर आप भी खर्राटे लेते हैं ? तो जानें खर्राटों से जुड़े कुछ तथ्य
अधिक खर्राटे लेना एक गंभीर स्वास्थ्य समस्या को जन्म दे सकता है। यदि आप या आपका पार्टनर खर्राटे लेता है तो सावधान हो जाइए क्योंकि हम आपको बताने जा रहे हैं खर्राटों से जुड़े कुछ तथ्यों  के बारे में -

 

खर्राटे एक संकुचित वायुमार्ग के कारण होते हैं

नींद के दौरान आपके गले की मांसपेशियां आराम करती हैं, जिससे आपका वायुमार्ग संकीर्ण हो जाता है। जैसे-जैसे आप अंदर और बाहर सांस लेते हैं, वैसे ही तनावमुक्त ऊतक कंपन शुरू हो सकता है, जिसके परिणामस्वरूप कठोर खर्राटे की आवाज हो सकती है। वायुमार्ग जितना अधिक संकुचित होगा, उतनी  ही जोर से खर्राटे आएंगे। क्योंकि आपके पीठ के बल सोने से आपके गले के पीछे की ओर टिशू "शिथिल" हो सकते हैं, अगर आप खर्राटे लेते हैं तो आपके लिए बेहतर होगा कि आप पीठ के बल न सोकर करवट लेकर सोएं।  

उम्र का तकाज़ा

कभी-कभी बढ़ती उम्र , शरीर की बनावट, किसी चीज़ से एलर्जी या फिर शराब का सेवन करने की वजह से खर्राटे आते हैं। बढ़े हुए टॉन्सिल गले को संकीर्ण कर सकते हैं, जैसा कि एलर्जी के मौसम में नाक या गले की सूजन हो सकती है। चूंकि शराब एक शक्तिशाली मसल्स रिलैक्सेंट है, इसलिए इसका सेवन करने के बाद सोने से  खर्राटे  और अधिक बढ़ सकते हैं।

खर्राटे लेना सामान्य है भी हो सकता है

अपने जीवन के दौरान अधिकतर लोग खर्राटे लेते हैं कुछ लोग धीमी गति से तो कुछ तीव्र लती से खर्राटे लेते हैं। पुरुषों में खर्राटे अधिक लेना एक आम बात हो सकती है। जहां एक तरफ 40  प्रतिशत पुरुष खर्राटों को समस्या का शिकार होते हैं, वहीं 24 प्रतिशत महिलाएं खर्राटे लेती हैं। यदि आपके माता-पिता में से कोई एक खर्राटे लेता है, तो आप ऐसा करने की अधिक संभावना रखते हैं, क्योंकि व्यवहार के लिए यह आनुवंशिक भी होता है।

जीवन शैली में बदलाव खर्राटों को कम कर सकता है

कभी-कभार खर्राटों के लिए जीवन शैली में बदलाव से मदद मिल सकती है। एक तरफ करवट लेकर सोएं , रात में शराब न पिएं , वजन पर नियंत्रण रखें।  एलर्जी के मौसम के दौरान नाक को मास्क से ढककर रखें।  सोते समय नेज़ल स्ट्रिप का इस्तेमाल करें, जिससे एलर्जी या ठंड से संबंधित सूजन से राहत मिल सकती है और सांस  लेना आसान हो सकता है।

 

ये भी पढ़ें -

खर्राटों से बचने के 10 उपाय

गर्भावस्था में आम है खर्राटे लेना

आप हमें फेसबुकट्विटरगूगल प्लस और यू ट्यूब चैनल पर भी फॉलो कर सकती हैं। 

 

 

कमेंट करें

blog comments powered by Disqus

संबंधित आलेख

default

कहीं आपके खर्राटे किसी की नींद तो नहीं उड़ा...

default

खर्राटों से निजात दिलाएंगे ये 5 योगासन

default

जानिए एक्यूप्रेशर में पिरामिड का प्रयोग

default

नियमित करें ये पाँच प्राणायाम, पाएँ सेहत...