GREHLAKSHMI

FREE - On Google Play
OPEN

क्या हैं नवरात्रि व्रत के फायदे और नुकसान

संविदा मिश्रा

30th September 2019

नवरात्र के नौ दोनों तक माता के भक्त उनकी भक्ति में लीन होकर उपवास करते हैं। मान्यता है कि माता को प्रसन्न करने का सबसे बेहतर तरीका माता की पूजा उपासना के साथ उपवास करना है। इस व्रत के कुछ फायदे भी हैं तो कुछ नुकसान भी हैं।

क्या हैं नवरात्रि व्रत के फायदे और नुकसान
माता की भक्ति में उपवास करना हर भक्त को अच्छा लगता है।  यहां तक कुछ लोग ऐसा व्रत भी करते हैं जिसमें व्रत में खाए जाने वाले सेंधा नमक का भी प्रयोग नहीं करते हैं। आज हम आपको बताने जा रहे हैं व्रत के कुछ फायदे और नुकसानों के बारे में 

व्रत के फायदे

  • यदि आप अपने बढ़ते वजन से परेशान हैं तो नौ दिनों में सही डाइट से आप अपना वजन काफी कम कर सकते हैं। 
  •  नवरात्रि के इन नौ दिनों में उपवास कर आप पेट संबंधी समस्याओं से निजात पा सकते हैं। इस दौरान समय-समय पर हल्का और पौष्ट‍िक आहार लेकर आप गैस, एसीडिटी जैसी समस्याओं को समाप्त कर सकते हैं। 
  • रोज की भागदौड़ और व्यस्तता से भरी जीवनशैली में अनावश्यक और अनियंत्रित खानपान से आपकी पूरी दिनचर्या और अन्य चीजें प्रभावित होती हैं। ऐसे में नवरात्रि के उपवास के दौरान आप अपनी इस जीवनशैली और आहार योजना को व्यवस्थि‍त कर सकते हैं। 
  • उपवास  कायाकल्प करने के साथ उम्र भी बढ़ाता है। व्रत के इन फायदों का हमारे मानसिक और भावनात्मक स्वास्थ्य पर स्थाई प्रभाव हो सकता है।

व्रत के नुकसान

  • कई बार व्रत के नाम पर हम ज्यादा खा लेते हैं जिससे ज्यादा कैलोरी की वजह से मोटापा बढ़ने का खतरा हो जाता है। 
  • व्रत में कई बार हम बहुत कम पानी पीते हैं जिससे गुर्दे प्रभावित हो सकते हैं। यह गुर्दे की पथरी का कारण भी बन सकता है। इस समस्या से बचने के लिए हमें पर्याप्त पानी पीना चाहिए ताकि कैल्शियम  जमा ना हो सके।
  •  उच्च रक्तचाप ,मधुमेह  या एनिमिक लोगों को व्रत रखने से कुछ परेशानियां हो सकती हैं। जैसे शरीर में शर्करा का लेवल बढ़ना या घटना या फिर उच्च या कम रक्तचाप का होना। 

क्या सावधानी बरतें 

  • ज्यादा मात्रा में लिक्विड का सेवन करें जैसे नींबू पानी, नारियल पानी और ज्यादा से ज्यादा फल खाएं जिससे पर्याप्त ऊर्जा बानी रहे। 
  •  बहुत ज्यादा चाय या कॉफी, बर्फी या लड्डू जैसी मिठाइयों के सेवन से बचें।  
  • किसी बीमारी से ग्रसित लोगों को डॉक्टर की सलाह से ही व्रत करना चाहिए। 
  •  लंबे  अन्तराल पर ज्यादा भोजन लेना उचित नहीं है, बल्कि वास्तव में तो कम अंतराल में थोड़ा-थोड़ा भोजन लिया जाना चाहिए।
  •  उच्च रक्तचाप से ग्रस्त रोगियों को नमक की खपत के स्तर पर नियंत्रण रखना चाहिए।

ये भी पढ़ें -

नवरात्रि में ये वास्तु टिप्स लाएंगे आपके घर में सुख-समृद्धी

वेश्यालय की मिट्टी से क्यों बनाई जाती है मां दुर्गा की मूर्ति

शारदीय नवरात्रि 2019: नौ दुर्गा पूजन की ऐसे करें तैयारी

आप हमें फेसबुकट्विटरगूगल प्लस और यू ट्यूब चैनल पर भी फॉलो कर सकती हैं।

कमेंट करें

blog comments powered by Disqus

संबंधित आलेख

default

इन गलतियों के चलते आपकी पूजा हो सकती है निष्फल,...

default

पीरियड्स दर्दरहित रहे तो जरूरी है एक्सरसाइज...

default

वेश्यालय की मिट्टी से क्यों बनाई जाती है...

default

व्रत के दौरान रखें सेहत का ध्यान