GREHLAKSHMI

FREE - On Google Play
OPEN

क्या आपका बच्चा जानता है फर्स्ट एड के बारे में

संविदा मिश्रा

1st October 2019

फर्स्ट एड बॉक्स या प्राथमिक चिकित्सा किट प्रत्येक व्यक्ति के लिए अति आवश्यक होता है। प्रतिदिन के काम काज के दौरान या यात्रा के दौरान अचानक चोट लगना तथा स्वास्थ्य में गड़बड़ी एक आम बात है। इस स्थिति में रक्त बहने, घाव होने, घाव को संक्रमण से बचाने के लिए तथा सामान्य वायरल संक्रमण से बचने के लिए फर्स्ट एड बॉक्स बहुत उपयोगी हो जाता है।

क्या आपका बच्चा जानता है फर्स्ट एड के बारे में
जब बात हो रही है आपके बच्चे की तो क्या आपने कभी सोचा है कि आपके बच्चे को भी फर्स्ट एड बॉक्स की पूरी जानकारी होनी ज़रूरी है। आमतौर पर देखा जाता है कि बच्चों की पार्क  में खेलते समय या फिर स्कूल में कोई एक्टिविटी करते समय छोटी -मोटी चोटें लगती रहती हैं। इन चोटों के इलाज के लिए फर्स्ट ऐड ही काफी होता है और प्राथमिक उपचार के द्वारा इनका इंस्टेंट इलाज किया जाता है।  लेकिन जब बात आती है बच्चे को फर्स्ट एड या प्राथमिक उपचार की जानकारी देने की तब हम सब इस बात को गहराई से नहीं समझ पाते और हमें लगता है कि भला बच्चे को प्राथमिक उपचार के बारे में जानने की क्या ज़रुरत है।
मान लीजिए कि बच्चे के दोनों पेरेंट्स वर्किंग हैं और बच्चे को कभी कोई छोटी सी चोट ही लग जाती है ऐसे में यदि बच्चे को प्राथमिक उपचार की जानकारी होगी तब वह अपनी चोट का प्राथमिक उपचार कर सकता है।  जैसे वो डेटॉल से चोट को साफ़ करके उस पर कोई ऑइंटमेंट लगा सकता है। या फिर कभी उसे तेज़ खांसी आए  तब  उसे कफ सिरप की ज़रुरत होती है ऐसे में बच्चे को इस बात का अंदाजा होना भी ज़रूरी है कि उसे कौन सा कफ सिरप लेना  चाहिए।

ऐसे दें बच्चे को फर्स्ट एड बॉक्स की जानकारी

  • घर में रखे किसी ट्रांसपैरेंट बॉक्स को फर्स्ट एड बॉक्स बनाएं और उसके ऊपर प्लस सिम्बल लगा कर रख दें।
  • फर्स्ट एड बॉक्स में कुछ बेसिक मेडिसिन्स जैसे डेटॉल, पेन  रिलीफ ऑइंटमेंट , बैंडेड आदि रखें।  यदि बच्चे को मेडिसिन्स के नाम नहीं पता हैं तो मेडिसिन्स के ऊपर कलरफुल स्लिप लगाएं और ज़रुरत पड़ने पर कौन से कलर की स्लिप वाली मेडिसिन लेनी हैं ये समझाएं।
  • बच्चे को सिखाएं की यदि कहीं चोट लगे तो उसे पहले डेटॉल से साफ़ कर लें।  अगर छोटा सा कट लग जाए तो बैंडेड लगा ले और कभी भी चोट पर डायरेक्ट ऑइंटमेंट न लगाए।

कमेंट करें

blog comments powered by Disqus

संबंधित आलेख

default

डिजिटल युग में बिगड़ते बच्चे

default

आखिर क्यूं घर से ज्‍यादा होटल में सेक्‍स...

default

कौन से संस्कार हैं जो बच्चों में ज़रूर होने...

default

बच्चों की इन गलत आदतों का कारण आप तो नहीं...

पोल

अगर पेपर लीक हो जाए तो क्या फिर से एग्ज़ाम होना चाहिए?

गृहलक्ष्मी गपशप

कम हो गया है...

कम हो गया है अब...

‘‘मैंने सुना है कि आजकल एपिसिओटॉमी का चलन नहीं रहा...

सेक्स ना करन...

सेक्स ना करने के...

यूं तो हर इंसान अपने जीवन में सेक्स ज़रूर करता है,...

संपादक की पसंद

पूजा में बां...

पूजा में बांधा जाने...

किसी भी पूजा की शुरुआत या समाप्ति के बाद या फिर किसी...

इन हाथों में...

इन हाथों में लिख...

हर दुल्हन अपने होने वाले पति का नाम लिखवाना पसंद करती...

सदस्यता लें

Magazine-Subscription