GREHLAKSHMI

FREE - On Google Play
OPEN

क्या होती है पिरामिड जल चिकित्सा?

अनुज श्रीवास्तव

15th October 2019

पिरामिड जल चिकित्सा एक वैकल्पिक चिकित्सा पद्धति है जिसके प्रयोग से कई स्वास्थ्य समस्याओं से छुटकारा पाया जा सकता है। इसके लाभ एवं उपयोग को आइए जानते हैं।

क्या होती है पिरामिड जल चिकित्सा?
कैसे करें प्रयोग - पानी से भरे बर्तन के मुख में एक पतला सफेद कपड़ा बांध लें और फिर इसमें बर्तन के मुख के आकार का पिरामिड यंत्र रख दें। फिर उस बर्तन को खुले वातावरण में 3 से 12 घंटे के लिए रख दें। 3 घंटे बाद इसका उपयोग किया जा सकता है 5-6 घंटे बीत जाने के बाद इसमें रखा हुआ जल पिरामिड जल में परिवर्तित 
हो जाता है। याद रखें कि इस पिरामिड जल से भरे पात्र को  िफ्रज, पंखे, विद्युत या चुम्बकीय चीजों से दूर रखें और इसे बंद अलमारी में भी न रखें। इस पात्र को इस तरह से खुले में रखना चाहिए कि इसका संबंध सीधा आकाश से बन सके। इस बर्तन के नीचे पिरामिड की चिप्स भी लगायी जा सकती है। इससे कम समय में साधारण जल पिरामिड जल में परिवर्तित हो जाएगा।पिरामिड जल के लाभ पिरामिड जल के उपयोग से कई रोगों का उपचार हो जाता है। आइए इसके होने वाले लाभों पर एक नजर डालते हैं-

आंखों से जुड़ी समस्याएं

  • नित्य प्रति ऊर्जायुक्त जल से नेत्र धोने पर नेत्र रोगों में लाभ होता है।
  • यदि आंख को इस जल से धोएं तो आंखों का इन्फेक्शन, जलन और लाली खत्म होती है।धूल, धुआं, गर्मी आदि प्रदूषक तत्त्वों से बचाव होता है।आंखों के दर्द से राहत मिलती है।

मुख एवं चेहरे की समस्या

  • मुख को स्वस्थ रखने के लिए प्रतिदिन इस जल से कुल्ला करें। यह दांतों पर जमी मैल हटा कर मसूड़ों को स्वस्थ बनाता है। दांत मजबूत व रोगमुक्त हो जाते हैं।
  • इसके पानी से मुंह धोएं पर एक बात का ध्यान रखें कि पानी से मुंह धोने के बाद साबुन एवं क्रीम या तेल का प्रयोग न करें। 15-16 दिनों में मुंहासें ठीक होने लगते हैं और उनका रंग बदल जाता है।पिरामिड जल को पीने से चेहरे में ओज और तेज भी बढ़ता है। इसके लिए प्रतिदिन जल को फलों के रस में मिला कर पियें।

पाचन संबंधित रोग

  • यदि प्रतिदिन इस ऊर्जायुक्त जल को पीएं तो पाचन-तंत्र दुरुस्त हो सकता हैऔर यह रक्त को भी शुद्घ करता है।
  • एसीडिटी से पीडि़त लोगों के लिए पिरामिड जल का प्रयोग काफी लाभकारी है। जिस व्यक्ति को एसीडिटी की शिकायत है वह इस जल का उपयोग खाना खाने के बाद कर सकता है, परन्तु ध्यान रहे सिर्फ 20-25 ग्राम ही पिरामिड जल पियें, उससे ज्यादा न लें।
  • जो व्यक्ति अधिक धूम्रपान करते हैं उन्हें अकसर यह शिकायत हो जाती है कि उनको शौच करने में तकलीफ होती है। ऐसे रोगी को नियमित रूप से पिरामिड जल का सेवन करना चाहिए।

बालों का गिरना व सफेद होना

  • आप बालों का गिरना या सफेद होना जैसी परेशानी से बचना चाहते हैं तो पिरामिड ऊर्जायुक्त जल से अपने बाल 
  • धोएं। कुछ ही समय में आपके बाल काले, घने व लंबे हो जाएंगे।
  • पिरामिड जल का प्रयोग करने से आंखों के नीचे कालेपन दूर होते हैं।
  • पिरामिड जल के प्रयोग से शरीर की त्वचा सुकोमल होने लगती है और यह सिद्ध हो चुका है।

मोटापा कम करने में सहायक

कमेंट करें

blog comments powered by Disqus

संबंधित आलेख

default

पिरामिड-चिकित्सा से पाएं स्वास्थ्य लाभ

default

जानिए एक्यूप्रेशर में पिरामिड का प्रयोग

default

पानी की बर्बादी रोकने के 13 तरीके

default

क्या हैं नवरात्रि व्रत के फायदे और नुकसान...