हर महिला  के वॉर्डरोब में होनी चाहिए लहरिया साड़ी या लहंगा

गरिमा अनुराग

9th November 2019

हर महिला  के वॉर्डरोब में होनी चाहिए लहरिया साड़ी या लहंगा

लहरिया साड़ियां गुजरात और राजस्थान के पारंपरिक टाई एंड डाई से बनाया जाने वाला पैटर्न है। लहरिया यानी लहर। लहरिया यूं तो ज्यादातर पतले सिल्क और कॉटन के कपड़े पर की जाती है, लेकिन आजकल ये पैटर्न जॉर्जेट, शिफॉन जैसे कपड़ों पर भी हो रही है। पारंपरिक कारिगर लहरिया के लिए एलिज़रिन (लाल रंग का गाढ़ा शेड) या नीले रंग में करते थे, लेकिन अब ऐसा नहीं है। अब लहरिया में कई तरह के रंगों का इस्तेमाल होता है।

हाल ही में दिशा पाटनी ने एक मैगज़ीन के कवर शूट में लहरिया स्कर्ट पहनकर फोटो शूट करवाया है।

 

दिशा पाटनी की ही तरह हर महिला को अपने कलेक्शन में लहरिया जरूर शामिल करनी चाहिए। लहरिया साड़ी, दुपट्टे, लहंगा या स्कर्ट, किसी भी रुप में आप इस पैटर्न को अपने वॉर्डरोब में शामिल कर सकती हैं।

राजस्थान, मेवाड़ से है पुराना रिश्ता

कपड़े पर पानी के लहरों जैसी आढ़ी-तिरछी रेखाओं वाला ये प्रिंट, लहरिया राजस्थान, खासतौर से मेवाड़ की परंपराओं में सदियो से रचा बसा है। इस प्रिंट की शुरूआत 19वीं सदी में हुई थी और पहले लहरिया साड़ियां सिर्फ मेवाड़ के राजघराने की महिलाओं के लिए बनाया जाता था। आज भी मेवाड़ी में इन साड़ियों को बनाया जाता है, लेकिन अब ये साड़ियां देशभर में मिलती हैं। आज भी राजस्थान में किसी भी शुभ अवसर पर और पूरे सावन सुहागिन महिलाएं लहरिया साड़ियां जरूर पहनती हैं। 

 

कमेंट करें

blog comments powered by Disqus

संबंधित आलेख

इस दुल्हन ने...

इस दुल्हन ने शादी पर लहंगे की जगह पहनी साड़ी,...

बिग बॉस कंटे...

बिग बॉस कंटेस्टेंट शहनाज गिल का फैशन सेंस...

शादि में खूब...

शादि में खूबसूरत दिखने के लिए अनन्या पांडे...

Diwali Outfi...

Diwali Outfit Idea: दिवाली के लिए हिना खान...

पोल

आपकी पसंदीदा हिरोइन

गृहलक्ष्मी गपशप

पहली बार घर ...

पहली बार घर रहे...

लाॅकडाउन से पहले अक्षय कुमार की फिल्म सूर्यवंशी रीलीज़...

अनलाॅक 2 में...

अनलाॅक 2 में 31...

मिनिस्ट्री आफ होम अफेयर्स ने कहा है कि जो डोमैस्टिक...

संपादक की पसंद

गुरु एक सेतु...

गुरु एक सेतु है,...

गुरु तो एक सेतु है, एक संभावना है। गुरु एक तरह की रिक्तता...

दिल जीत लेंग...

दिल जीत लेंगे जयपुर...

जयपुर को गुलाबी शहर कहा जाता है लेकिन ये महलों का शहर...

सदस्यता लें

Magazine-Subscription