लेखिका रश्मि बंसल का मानना है कि महिलाओं की कहानी में नज़ाकत और ताकत दोनों दिखती है

गरिमा अनुराग

1st January 2020

लेखिका रश्मि बंसल का मानना है कि महिलाओं की कहानी में नज़ाकत और ताकत दोनों दिखती है

आज महिलाएं हर क्षेत्र में अपनी जगह बना चुकी हैं और अपने ज्ञान और अनुभव से अपने परिवार के साथ साथ समाज को भी बेहतर बनाने की कोशिश कर रही हैं। इस साल की शुरूआत हम ऐसी ही महिलाओं से आपको रुबरू करा कर कर रहे हैं ताकि आप भी इनसे प्रेरणा ले सकें। लोगों को अपने व्यवसाय के प्रति सकारात्म रवैया समझाना हो, सेहत और खूबसूरती के बारे में सही जानकारी देने की कोशिश हो, किसी प्रांत के स्वाद की बारीकियां हो या सेलेब्रिटीज़ से लेकर आम लोगों को फिटनेस का सही अर्थ हो, इन महिलाओं ने समाज में अपनी जगह अपने तरीकों से बनाई है।

रश्मि बंसल का परिचय

रश्मि बंसल नॉन फिक्शन लेखिका हैं, उद्यमी हैं और युवाओं से जुड़े मुद्दों पर अच्छी पकड़ रखती हैं।  सिर्फ साल 2019 में ही उन्होंने एंटरप्रेन्योरशिप पर नौ किताबें लिखी हैं। उनकी पहली किताब, "स्टे हंगरी, स्टे फूलिश" में 25 एमबीए किए हुए उद्यमियों की सफलता के बारे में लिखा गया है और इस किताब की मार्केट में अब तक 5 लाख कॉपीज़ बिक चुकी हैं।

देश में किसी किताब के इतनी कॉपीज़ बिकना अपने आप में बड़ी उपलब्धी समझी जाती है।


1. पहले टच द स्काई, फिर शाइन ब्राइट...एक के बाद महिलाओं की उपलब्धियों पर लिखने की प्रेरणा कहां से मिली?

जवाब- महिलाओं की कहानी में ताकत भी है और नज़ाकत भी इसलिए महिलाओं की कहानियां लिखना मुझे आकर्षित करता है।

2. इन किताबों को लिखते हुए क्या आपने भी कुछ सीखा?

हां, इन किताबों को लिखते हुए मैंने ये सीखा कि एक महिला कोई भी मुकाम हासिल कर सकती है अगर उसमें विश्वास और साहस हो। हर समय दूसरों को खुश करना हमारे समाज का कायदा है, लेकिन जब महिला अपने सपनों को भी उतनी ही एहमियत दे तो जीने का असली अमदाज नज़र आता है।

3. नए साल में आप वुमनहुड को सेलिब्रेट करते हुए या महिलाओं से जुड़े किसी भी पहलु से जुड़ा किस तरह का रेजॉल्यूशन लेने वाली हैं?

जवाब-    मेरे हिसाब से महिलाओं की सबसे बड़ी जरूरत है खुद में आत्मविश्वास पैदा करना।  मैं महिला उद्यमियों की मेंटरशिप  प्रोग्राम से जुड़ी हुई हूं औऱ  इश क्षेत्र में  और युवतियों को भी अपनी किताबों और कहानियों के द्वारा अपने पैर पर खड़े होने की प्रेरणा देती रहूंगी। नए साल के लिए यही मेरा दृढ़  संकल्प है।

 

कमेंट करें

blog comments powered by Disqus

संबंधित आलेख

कोई ऐसा दिन ...

कोई ऐसा दिन नहीं है, जब मैं पढ़ती नहीं हूं-...

पंगत की लेखि...

पंगत की लेखिका साई कोराने इस साल देश के विभिन्न...

घूंघट से बाह...

घूंघट से बाहर निकल रहा है देश का भविष्य

क्या डॉ प्रि...

क्या डॉ प्रियंका रेड्डी को इंसाफ मिल पायेगा?...

पोल

आपकी पसंदीदा हिरोइन

गृहलक्ष्मी गपशप

पहली बार घर ...

पहली बार घर रहे...

लाॅकडाउन से पहले अक्षय कुमार की फिल्म सूर्यवंशी रीलीज़...

अनलाॅक 2 में...

अनलाॅक 2 में 31...

मिनिस्ट्री आफ होम अफेयर्स ने कहा है कि जो डोमैस्टिक...

संपादक की पसंद

गुरु एक सेतु...

गुरु एक सेतु है,...

गुरु तो एक सेतु है, एक संभावना है। गुरु एक तरह की रिक्तता...

दिल जीत लेंग...

दिल जीत लेंगे जयपुर...

जयपुर को गुलाबी शहर कहा जाता है लेकिन ये महलों का शहर...

सदस्यता लें

Magazine-Subscription