GREHLAKSHMI

FREE - On Google Play
OPEN

पंगत की लेखिका साई कोराने इस साल देश के विभिन्न क्षेत्रों की कुकिंग पद्धति सीखेंगी

गरिमा अनुराग

1st January 2020

पंगत की लेखिका साई कोराने इस साल देश के विभिन्न क्षेत्रों की कुकिंग पद्धति सीखेंगी

आज महिलाएं हर क्षेत्र में अपनी जगह बना चुकी हैं और अपने ज्ञान और अनुभव से अपने परिवार के साथ साथ समाज को भी बेहतर बनाने की कोशिश कर रही हैं। इस साल की शुरूआत हम ऐसी ही महिलाओं से आपको रुबरू करा कर कर रहे हैं ताकि आप भी इनसे प्रेरणा ले सकें। लोगों को अपने व्यवसाय के प्रति सकारात्म रवैया समझाना हो, सेहत और खूबसूरती के बारे में सही जानकारी देने की कोशिश हो, किसी प्रांत के स्वाद की बारीकियां हो या सेलेब्रिटीज़ से लेकर आम लोगों को फिटनेस का सही अर्थ हो, इन महिलाओं ने समाज में अपनी जगह अपने तरीकों से बनाई है।

साई कोराने खांडेकर- एक परिचय

साई कोराने खांडेकर ने अब तक दो किताबें लिखी हैं, बच्चों के लिए छपी लघु कथाओं पर आधारित एक किताब में उनकी कहानी शामिल है और उनके लेख अकसर ही किसी न किसी पत्रिका में प्रकाशित होते रहते हैं। साई ने ऑनलाइन मैगज़ीन दीवाली अंक में मराठी व्यंजनों के बारे में, दीवाली पंगत के नाम से बहुत विस्तार से लिखा और प्रकाशित किया है। वो मुंबई में अपने परिवार और पौधों के साथ रहती हैं और अपना कंटेन्ट औऱ कंसेल्टेंसी फर्म, स्क्रॉलिफिक कंटेन्ट स्टूडियो चलाती हैं।

पंगत जैसी किताब लिखने का ख्याल कैसे आया?

मैं खुद एक मराठी हूं और मैंने अक्सर लोगों को ये सोचते हुए पाया है कि मराठी खाना मतलब वडा पाव या किसी तरह का कोई कोल्हापुरी डिश। मुझे महसूस हुआ कि इस क्षेत्र में काम करने की बहुत जरूरत है तैकि लोग महाराष्ट्र के पारंपरिक व्यंजनों के साथ-साथ हमारे यहां के रोज़मर्रा में बनने वाले व्यंजनों के बारे में भी समझ सकें। मैंने इस क्षेत्र में तकरीबन तीन साल तक शोध किया, जानकारों से मिली, तभी इस किताब पर काम शुरू किया।

ये बुक महिलाओं को क्यों पढ़नी चाहिए?

सिर्फ महिलाओं को क्यों, मैं तो चाहती हूं कि ये बुक हर किसी को पसंद आए औऱ जो लोग भी इसे पढ़े, उन्हें सिर्फ कुकिंग के बारे में समझ न आए, बल्कि वो ये भी समझ पाएं कि खाने का रिश्ता हमारे मौसम, क्षेत्र, साहित्य, इतिहास और कला सब से जुड़ा है। ये हमारे रुटीन लाइफ में नज़र भी आता है, बस हम उशे समझ नहीं पाते हैं।

अपने कुकिंग, फूड लव के लिए नए साल में आप क्या  कुछ करना चाहेंगी?

मैं हमारे देस में खाना बनाने में इस्तेमाल किए जाने वाली सामाग्रियों पर शोध करना चाहूंगी औऱ दूसरे क्षों के कुकिंग तकनीक को भी समझना चाहूंगी।

फूड से जुड़ा आपका नए साल में रेजॉल्यूशन क्या है?

नई, पारंपरिक सामग्रियां और कुकिंग तकनीक के बारे में जानकारी बटोरने के साथ मैं नए साल में ज्यादा कुकिंग करना पसंद करूंगी।

कमेंट करें

blog comments powered by Disqus

संबंधित आलेख

default

लेखिका रश्मि बंसल का मानना है कि महिलाओं...

default

लेखिका सरीता माथुर की लेखनी में प्रकृति का...

default

शेफ शाजिया खान की पहली कुकबुक - 'वॉटस् ऑन...

default

उम्र जो भी हो, शुरूआत करने से न डरें- शेफ...

पोल

सबसे अछि दाल कौन सी है

गृहलक्ष्मी गपशप

कम हो गया है...

कम हो गया है अब...

‘‘मैंने सुना है कि आजकल एपिसिओटॉमी का चलन नहीं रहा...

सेक्स ना करन...

सेक्स ना करने के...

यूं तो हर इंसान अपने जीवन में सेक्स ज़रूर करता है,...

संपादक की पसंद

केविनकेयर के...

केविनकेयर के "इनोवेटिव...

भारतीय एफएफसीजी ग्रुप केविनकेयर ने अभिनेता अक्षय कुमार...

इन व्यंजनों ...

इन व्यंजनों को बनाकर,...

सभी भारतीय त्यौहारों के उपवास और अनुष्ठानों के बाद...

सदस्यता लें

Magazine-Subscription