GREHLAKSHMI

FREE - On Google Play
OPEN

नारी के सवाल...

नारी के सवाल अनाड़ी के जवाब

बहुत सी नारियों का मानना है कि अगर सेंसर बोर्ड का अध्यक्ष अनाड़ी जी को बनाया जाए, तो आज की नई पीढ़ी को भटकने से रोका जा सकता है। इस...

जब तुम बड़ी ...

जब तुम बड़ी हो जाओगी...

  प्यारी बेटी, जब तुम बड़ी हो जाओगी, दुनिया जो आज है वो कल भी रहेगी। तुम्हारा दृष्टिकोण परिपक्व होकर, हर चलन को तुम बेहतर...

मां की याद

मां की याद

आज यूही बैठे बैठे आंखे भर आई हैं, कहीं से मां की याद दिल को छूने चली आई हैं। वो आंचल से उसका मुंह पोछना और भाग कर गोदी मे उठाना,...

नारी के सवाल...

नारी के सवाल अनाड़ी के जवाब

अनाड़ी जी, जो लोग जीवन में प्रेम का महत्व नहीं समझते, उनसे आप क्या कहेंगे? संगीता शर्मा, गाजियाबाद जो प्रेम नहीं करता, जीवन से...

ये वो बदनाम ...

ये वो बदनाम गलियां हैं जहां बिस्तर...

    ये वो बदनाम गलियां हैं  जहाँ किस्मत भी अपना रुख करने से पहले  सौ दफ़े दम तोड़ती है।    जहाँ सूरज रोज़ उगता तो है मगर ...

नारी के सवाल...

नारी के सवाल अनाड़ी के जवाब

  अनाड़ी जी, शादी के बाद पुरुष तीन महिलाओं के बीच फंस जाता है- मां, पत्नी और बहन। कुछ समय बाद एक महिला और उसकी जिंदगी में आती है-...

औरत सब संभाल...

औरत सब संभाल लेती है...

● वो "औरत" दौड़ कर रसोई तक , दूध बिखरने से पहले बचा लेती है । ● समेटने के कामयाब मामूली लम्हों में, बिखरे "ख्वाबों" का गम भुला...

मेरे सपने

मेरे सपने

बाल कहानी नन्ही सी आंखों में मेरे, नन्हे नन्हे से हैं सपने कुछ औरों के लिए हैं लेकिन कुछ नितांत ही मेरे अपने। सपने देखे हैं,...

एक बेटी ने ब...

एक बेटी ने बताई अपनी कहानी इस कविता...

  कोख में आई जब मैं माँ के ..   कोख में आई जब मैं माँ के .. दादी ने दुआ दी पोते के लिए, बुआ ने मन्नत मांगी भतीजे के लिए...