GREHLAKSHMI

FREE - On Google Play
OPEN

आशाओं का सूरज

आशाओं का सूरज

महेश एक बहुत ही होनहार और बुद्धिमान बालक था। उसमें सीखने और जानने की अद्भुत ललक थी। उसके हाथों में तो मानो जादू था। वह अपने चित्रों...

नारी के सवाल...

नारी के सवाल अनाड़ी के जवाब

घर का खाना अच्छा या बाहर का खाना? सारिका वोहरा, हिमाचल प्रदेश   बाहर मिले घर जैसा खाना और घर पर बाहर जैसा मिले, तो तबियत...

गुमराह बच्चे

गुमराह बच्चे

सुबह के नौ बजे थे। स्कूल के गेट के  पास चार-पांच  लड़कियां सजी धजी सी खड़ी थी और बार बार सड़क की तरफ देख रही थी मानो किसी की राह देख...

नारी के सवाल...

नारी के सवाल अनाड़ी के जवाब

अनाड़ी जी, कहा जाता है कि सूरत नहीं, सीरत देखनी चाहिए, आपका क्या विचार है? आरती सिन्हा, दिल्ली   सूरत भी देखो सीरत भी देखो,...

अनुभूति प्या...

अनुभूति प्यार की

'रेवा के पति सुमित एक वकील हैं। वह  उनसे बहुत प्यार करती थी। जब भी वह उसकी बाँहों में होती, तब उसे एक अजीब सी अनुभूति होती। आज उसकी...

संगति का असर

संगति का असर

दामू दादा सुमित को मेला घुमा कर घर की ओर लौट रहे थे कि मेले में इतना घूमने के कारण सुमित को भूख सताने लगी थी। दामू दादा चूंकि घर से...

मज़ाक 

मज़ाक 

  विनय आठवीं कक्षा का विद्यार्थी था। वह बहुत तेज तर्रार और शरारती लड़का था। सदा कुछ न कुछ शरारत करता ही रहता था, परन्तु कभी भी पकड़ा...

शक्तिला

शक्तिला

   साबित कर दिया शक्तिला ने कि हिम्मत हो तो कोई नहीं डिगा सकता किसी को भी... और लडक़ी की सबसे बड़ी खूबसूरती है, मुश्किलों से लडऩे...

प्रिया का आत...

प्रिया का आत्मसम्मान

आज किसी भी काम में प्रिया का मन नहीं लग रहा था। पता नहीं क्यूँ  बार बार दिल घर की तरफ उड़ा जा रहा था। आज उसकी दीदी  नेहा जो आने वाली...