GREHLAKSHMI

FREE - On Google Play
OPEN

एक अनोखा बंधन

एक अनोखा बंधन

अविनाश को ऑफिस से छुट्टी नहीं मिली थी। इसलिए हम शादी में सिर्फ दो दिन पहले ही पहुंचे। ऑटो से उतरते ही कई जोड़ी आंखें हमारी ओर उठ गईं...

रिश्तों की उलझन

रिश्तों की उलझन

मेजर प्रभास अपने बडे भाई वीर के शादी के लिए घर पर छुट्टियां लेकर आये थे। घर में बहुत ही खुशी का माहौल था। वीर बैंगलोर में किसी कंपनी...

एक दिन अचानक

एक दिन अचानक

  रचना को आमतौर पर सिरदर्द रहता था। उसे लगता था कि शायद थकान के कारण उसे सिरदर्द हो रहा है और वह एक दर्द की गोली खा  लेती थी, जिससे...

खुशनुमा जिंदगी

खुशनुमा जिंदगी

जिंदगी बहुत ही हसीन थी। आज नेहा का मेडीकल कॉलेज का थर्ड इयर का आखिरी दिन था। नेहा को जल्द से जल्द पेपर देकर अपने चचेरी बहन की शादी...

पुरस्कार

पुरस्कार

नीता एक मध्यवर्गीय परिवार की बहू है, घर में पति नीलेश, सास-ससुर और अपने दो बच्चों के साथ मगन रहती, नीलेश एक सरकारी कार्यालय में अधिकारी...

रिदम और रूद्...

रिदम और रूद्राक्ष की प्रेम कहानी...

अक्सर जब किताबों में कोई प्रेम कहानी पढ़ती थी, तब मन में एक उधेड़बुन पैदा हो जाती है। मन में आता कि क्या ये सब असल जिंदगी में होता होगा,...

आओ, हम ही श्...

आओ, हम ही श्रीगणेश करें

"मम्मी गर्मी से मैं जला जा रहा हूं, मुझे बचा लो" मां ने रोते हुए बच्चे को सीने से लगाकर कहा," मत रो बेटे, इस गर्मी से तो पूरा संसार...

कवि सम्मेलन ...

कवि सम्मेलन के अध्यक्ष की योग्यता...

क्या अध्यक्षता बेवकूफ ही करते हैं- नहीं, बुद्धिमान भी करते हैं- पत्नी जी रहस्यमय ढंग से मुस्करा रही थीं, वे सामने विराजमान रंगीनी देखकर...

पांच के सिक्के

पांच के सिक्के

जया, मेरी वाइफ नहीं है। लेकिन वो मेरे अब तक कुंवारे होने का कारण जरूर है। क्या कहूं, कोई मिली नहीं उसके जैसी या कहूं कि ढूंढा ही नहीं।...