माहवारी में स्वस्थ रहने के तरीके

Dr. Snehal Singh

28th May 2020

माहवारी, महिलाओं में होने वाली एक जैविक प्रक्रिया है, जिसमें हार्मोन्स के उतार-चढाव होते हैं। इस दौरान, महिलाओं के शरीर तथा मन में काफ़ी बदलाव होते हैं। माहवारी को मासिक धर्म, रजोधर्म, मेंस्ट्रुअल साइकिल या पीरियड्स कहते हैं। जहाँ कुछ महिलाओं के लिए माहवारी एक साधारण प्रक्रिया है, वहाँ, कुछ महिलाओं को माहवारी में कई समस्याओं का सामना करना पड़ता है। इस स्थिति में एक स्वस्थ जीवनशैली तथा सही पोषण आपको माहवारी में स्वस्थ रहने के लिए मदद कर सकता है। तो आइये, जानें माहवारी में स्वस्थ रहने के तरीके।

माहवारी में स्वस्थ रहने के तरीके
माहवारी या पीरियड्स एक सामान्य प्रक्रिया है। हर महीने, महिलाओं के शरीर में बदलाव और हार्मोन्स के उतार-चढाव होते है। इस दौरान महिलाओं के गर्भाशय तथा अंदरूनी हिस्सों से रक्तस्त्राव होता है। आम तौर पर, यह प्रक्रिया एक चक्र की तरह चलती है - हर २८ से ३५ दिन पर। रक्तस्त्राव के कारण महिलोओं को माहवारी शोषक (जैसे कपड़ा या पैड) का उपयोग करना पड़ता है। साथ ही, शरीर में होने वाले बदलाव के कारण सेहत सम्बंधित समस्याएँ भी होती हैं। इस स्थिति में, महिलाओं को काफ़ी परेशानी हो सकती है। परन्तु सही पोषण और स्वस्थ जीवनशैली का पालन करने से माहवारी की काफ़ी परेशानिओ से छुटकारा मिल सकता है। आज हम बात करेंगे - माहवारी में स्वस्थ रहने के तरीकों के बारे में।
आइये, सबसे पहले जाने माहवारी से जुडी कुछ समस्याएँ।  
Menstrual Problems
• अनियमित माहवारी / लम्बी या छोटी माहवारी / कम या ज्यादा रक्तरस्त्राव - ज्यादातर महिलाओं में इनकी वजह हार्मोन्स से जुडी होती है। गर्भाशय और अंदरूनी हिस्सों की बीमारी भी इसका कारण हो सकती है। डाक्टर की सलाह और सही समय पर जाँच करने पर उचित इलाज किया जा सकता है।  
• पेट के निचे दर्द / कमर दर्द - माहवारी में कमर दर्द या पेट के निचे दर्द एक आम बात है। पर  कुछ महिलाओं को बहुत ज्यादा कमर दर्द सहना पड़ता है। 
• सरदर्द या माइग्रेन - यदि आपको सरदर्द या माइग्रेन की तकलीफ़ है, तो यह आपको, माहवारी के समय, ज्यादा परेशान कर सकता है।  
• मनोदशा में बदलाव या मूड स्विंग्स - माहवारी में, आपके शरीर के साथ, आपका मन भी कई तकलीफ़ों से गुजरता है। कई महिलोओं को, इन दिनों में, स्ट्रेस का अधिक एहसास होता है। माहवारी के समय आपको, ज्यादा गुस्सा, चिड़चिड़ापन, अकेलापन, बिना किसी वजह रोने की इच्छा या कुछ काम न करने की इच्छा होना, मूड स्विंग्स के कारण हो सकता है ।  
• श्रोणि संक्रमण (पेल्विक  इन्फेक्शन्स) -  महिलाओं में, योग्य माहवारी स्वच्छता न होने के कारण, श्रोणि संक्रमण (पेल्विक  इन्फेक्शन्स) का खतरा बढ़ सकता है।  
यदि आप माहवारी में स्वस्थ रहना चाहते हो तो इन समस्याओं  का समाधान करना बेहद  जरूरी है।
माहवारी में स्वस्थ रहने के तरीके
माहवारी की ज्यादातर समस्याएँ हार्मोन्स के उतार-चढ़ाव के कारण होती हैं। ज्यादा वजन, थाइरोइड प्रोब्लेम्स, डायबिटीज या अन्य स्वास्थ्य  समस्याएँ भी आपकी परेशानी बढ़ा सकती  हैं। आपका खान-पान और पोषण, व्यायाम की कमी, रोज़ की भागदौड़, स्ट्रेस, अधूरी नींद, इत्यादि, आपकी जीवनशैली की जरूरी चीज़ें  भी, इसमें अहम् भूमिका निभाते हैं। माहवारी हर महीने का चक्र है. आपके पूरे महीने की जीवनशैली का  इसपर असर पड़ता है।हार्मोन्स को समतोल रखने के लिए यह सभी बहुत जरूरी है।  
आइये जानें माहवारी में स्वस्थ रहने के तरीके ।  
सही पोषण (न्यूट्रिशन) 
Diet For Healthy Periods
रक्तरस्त्राव से जुडी समस्याएँ, पोषण की कमी से भी होती है - जैसे अनिमिआ - जिसे खून की कमी भी कहते हैं। महिलाओं को स्वस्थ रहने के लिए लोहा (आयरन), कैल्शियम, और विटामिन्स सही मात्रा में लेना आवश्यक है। आप अपने आहार में ताज़ी, हरी सब्ज़ियाँ जैसे मटर, गोभी, कद्दू, चुकंदर (बीटरूट) और हरी पत्तेवाली सब्ज़ी जैसे पालक, मेथी, सुवा जरूर लें। कैल्शियम की कमी से बचने के लिए दूध, दही, छांस, घी ले सकतें हैं। तंदुरूस्ती के लिए ताज़ें फल और मेवा लें सकतें हैं। 
ख़ास तौर पर खाने में खजूर, गुड़ और शहद लें - आप चाहें तो इनका उपयोग चीनी की जगह भी कर सकतें हैं। दर्द और लो-मूड से बचने के लिए आप अदरक, पुदीना,और दालचीनी जैसे गुणकारी पदार्थो का चाय में या अपने आहार में उपयोग कर सकते हैं।
नीचें दिए हुए कुछ आवश्यक बातों का भी ध्यान रखें।  
• खाना सही समय पर लें - ज्यादा देर तक खाली पेट न रहें।  
• ज्यादातर, खाना ताज़ा पका कर खाएँ।  
• दिनभर में थोड़ा थोड़ा पानी पीते रहें।  
• खाने में नमक, चीनी और तेल का उपयोग संभलकर करें।  
• जहाँ तक हो सकें, तले हुए, मसालेदार पदार्थ या जंक फ़ूड ज्यादा न लें।  
नियमित व्यायाम 
Regular Exercises For Healthy Periods
व्यायाम के कई फायदे हैं। नियमित व्यायाम या योग करने से शरीर में ब्लड सर्कुलेशन बेहतर हो है, आपके मांस-पेशियों में ताक़त आती है और हार्मोन्स संतुलित रखने में मदद होती है। आपका शरीर ही नहीं, मन भी स्वस्थ रहता है - इससे आप ज्यादा एक्टिव बन सकतें हैं। नियमित व्यायाम, आपके संपूर्ण महीने की दिनचर्या में शामिल करें जिससे आपको संतुलित जीवन का अनुभव होगा - इससे आप माहवारी के समय स्वस्थ महसूस करेंगे।  
कुछ ख़ास व्यायाम (पेल्विक एक्सरसाइजेज) आपके श्रोणि और उसके आस पास की मांस-पेशियों को मजबूत करता है - इससे माहवारी में दर्द की तकलीफ कम हो सकती है।  
यदि आप माहवारी के समय ज्यादा व्यायाम नहीं कर पातें हो तो कम से कम कुछ आसान व्यायाम करें, या खुली हवा में टहल सकतें हैं।  गहरी सॉंस  के व्यायाम (डीप ब्रीथिंग एक्सरसाइजेज) या प्राणायाम कर सकते हैं। यह बहुत फायदेमंद है।
संतुलित वजन 
Maintain Ideal Weight
ज्यादा वजन काफ़ी स्वास्थ्य समस्याओं को आमंत्रित कर सकता है। माहवारी तथा अन्य हार्मोन्स की तकलीफों से बचने के लिए सही वजन बनाएँ रखना बहुत जरूरी है। उचित आहार और नियमित व्यायाम आपको योग्य वजन बनाएँ रखने में जरूरी साबित होंगे।  
रात की नींद 
Adequate Sleep Keeps You Healthy
नींद पूरी न होना आपके स्ट्रेस को बढ़ाता है - जिससे आपकी भूख, काम करने की ऊर्जा, मूड और हार्मोन्स पर असर पड़ सकता है।  इसीलिए रात को सही तरीके से नींद होना आवश्यक है। आप दिनभर के काम और अपनी जीवनशैली इस प्रकार नियोजित करें, जिससे आप रात में निश्चिंत होकर सो सकें।  
मनः स्वास्थ्य  
Manage Your Stress For Healthy Periods
स्ट्रेस का असर आपके हार्मोन्स तथा अन्य जैविक प्रक्रियाओं पर पड़ता है। माहवारी में रक्तस्त्राव, दर्द, इत्यादि परेशानियाँ भी स्ट्रेस के कारण बढ़ सकती हैं। मनः स्वास्थ्य बनाएँ रखने के लिए आप रिलैक्सेशन थेरपीस का उपयोग कर सकतें हैं - योगा , मैडिटेशन, म्यूजिक रिलैक्सेशन आपको आराम दे सकतें हैं।  
माहवारी में स्वच्छता  
Menstrual Hygiene For Healthy Periods
गर्भाशय और सम्बंधित पेशियों के इन्फेक्शन्स से बचने के लिए मासिक धर्म स्वच्छता बेहद जरूरी है।  सुरक्षित तथा स्वस्थ माहवारी उत्पादों का उपयोग करें। माहवारी शोषकों को सही तरीके से फेंकना, हाथों को साफ़ धोना, स्नान करना और साफ़ सुथरा रहना, आपको संक्रमण या इन्फेक्शन्स से बचा सकता है।  
माहवारी में स्वस्थ रहने के इन आसान तरीकों का उपयोग करें और एक स्वस्थ जीवन का आनंद लें।  माहवारी के विषय पर जागरूक रहें, सही जानकारी लें और जरूरत पड़ने पर डाक्टर की सलाह अवश्य लें।  
यह भी पढ़ें

कमेंट करें

blog comments powered by Disqus

संबंधित आलेख

जानिए महिलाओ...

जानिए महिलाओं में कैंसर के लक्षण और बचाव...

Monsoon Heal...

Monsoon Health - मानसून के लिए १० प्रभावी...

मासिक धर्म स...

मासिक धर्म स्वच्छता क्यों है जरूरी?

Family Healt...

Family Health - पारिवारिक स्वास्थ्य और फिटनेस...

पोल

अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस मनाने की शुरुआत किस देश से हुई थी ?

वोट करने क लिए धन्यवाद

इंग्लैण्ड

जर्मनी

गृहलक्ष्मी गपशप

घर पर वाइट ह...

घर पर वाइट हैड्स...

वाइट हैड्स से छुटकारा पाने के लिए 7 टिप्स

बच्चे पर मात...

बच्चे पर माता-पिता...

आपकी यह कुछ आदतें बच्चों में भी आ सकती हैं

संपादक की पसंद

तोहफा - गृहल...

तोहफा - गृहलक्ष्मी...

'डार्लिंग, शुरुआत तुम करो, पता तो चले कि तुमने मुझसे...

समझौता - गृह...

समझौता - गृहलक्ष्मी...

लेकिन मौत के सिकंजे में उसका एकलौता बेटा आ गया था और...

सदस्यता लें

Magazine-Subscription