दवाइयों पर एक्सपायरी डेट क्यों होती है

मोनिका अग्रवाल

30th July 2020

अक्सर दवाएं किसी किस्म का केमिकल होती हैं। सभी केमिकल पदार्थों की यह विशेषता है कि समय बीतने के साथ उनका असर बदलता जाता है। ऐसा ही दवाओं के साथ भी होता है।

दवाइयों पर एक्सपायरी डेट क्यों होती है

दवाइयों पर एक्सपायरी डेट

अपने देखा होगी कि दवाइयों पर एक्सपायरी डेट लिखी होती है जो कि यह बताती है कि आप को इस दवाई का प्रयोग कब तक करना है। यदि आपकी किसी दवाई की एक्सपायरी डेट निकल चुकी है तो उस का प्रयोग अब न करें, यह आपके लिए असुरक्षित और हानिकारक हो सकती है। आपको दवाई के पैकेट पर लिखी सभी जानकारियों को अच्छे से पढ़ लेना चाहिए और जो दिशा निर्देश उसमे दिए गए हैं उनका पालन करना चाहिए। जैसे -

  • लंबे समय तक अर्थात् एक्सपायरी डेट तक उन्हें प्रयोग करने के लिए आपको उन दवाइयों को अच्छे से स्टोर करके रखना पड़ेगा। 
  • यदि आपकी दवाइयों से अब अलग प्रकार की गंध आने लगी है जो पहले नहीं आती थी तो चाहे उस दवाई की एक्सपायरी डेट भी न गई हो आपको फिर भी उसका प्रयोग नहीं करना चाहिए। 

एक्सपायरी डेट कहां होती है 

आपको अपनी दवाई की एक्सपायरी डेट उसकी पैकेजिंग पर या उसके लेबल पर मिल जाएगी। एक्सपायरी को अनेक तरह से लिखा जाता है जिनमे से मुख्य है :

  • एक्सपायरी

  • एक्सपायरी डेट

  • Expires

  • Exp. 

  • Exp डेट 

  • यूज बाय

  • यूज बिफोर

यह एक्सपायरी डेट दवाई को बनाने वाला उत्पादक या जो दवाई की सप्लाई करता है वह लिखता है। 

एक्सपायरी डेट का क्या मतलब होता है

एक्सपायरी डेट का मतलब होता है कि इस तारीख से आगे आपको इस दवाई का प्रयोग नहीं करना । उदाहरण के तौर पर यदि एक्सपायरी डेट जुलाई 2020 तो आपको यह दवाई 31 जुलाई के बाद नहीं खानी है अन्यथा यह खतरनाक हो सकती है। इसके कुछ साइड इफेक्ट्स भी हो सकते हैं। 

यूज बाय डेट का क्या मतलब होता है 

यदि आपकी दवाई के पैकेट पर एक्सपायरी डेट की बजाए यूज बाय या यूज बिफोर लिखा हुआ है तो उसका अर्थ है कि आपको दवाई उस महीने के पहले पहले ही लेनी है। उदाहरण के तौर पर यदि आप की दवाई पर जुलाई 2020 यूज बाय डेट है तो आपको वह दवाई केवल जून 2020 तक ही खानी है।

यदि इसके अलावा आपके डॉक्टर ने आपको कोई सुझाव दिया है तो आपको उसका भी पालन करना चाहिए। 

बहुत कम समय के लिए एक्सपायरी डेट्स

कुछ दवाइयां बहुत ही कम समय में एक्सपायर हो जाती हैं अर्थात् उनकी एक्सपायरी डेट बहुत छोटी होती है। ऐसे निम्नलिखित दवाइयां होती हैं

  • एंटीबायोटिक मिक्सचर जिस की एक्सपायरी डेट केवल 1 या 2 हफ़्ते ही होती है। 

  • आईड्रोपस जिन की एक्सपायरी डेट केवल 4 हफ़्ते ही होती है। 

हमें एक्सपायर्ड दवाइयों का क्या करना चाहिए 

यदि आप के पास कोई ऐसी दवाई है जिस की डेट एक्सपायर हो चुकी है तो आप को उसके साथ क्या करना चाहिए? क्या आपको वह फेंक देना चाहिए? इस बात का जवाब है कतई नहीं। आपको एक्सपायर्ड दवाइयों को अपने फार्मेसिस्ट के पास लेके जाना चाहिए ताकि वो उन्हें डिस्पोज कर दे। 

कभी भी एक्सपायर्ड दवाइयों को कूड़े में या बाहर न फेंके। यदि कोई पशु या कोई इंसान गलती से यूज दवाई को खा लेता है तो उन्हें परेशानी हो सकती है। इसलिए अपना कर्तव्य निभाए और दवाइयों को जिन की डेट उतर चुकी है, को बाहर न फेंकें। 

 

यह भी पढ़ें-

ओआरएस: पॉवरफुल हेल्थ सोल्यूशन

 

 

कमेंट करें

blog comments powered by Disqus

संबंधित आलेख

प्री-डाएबिटि...

प्री-डाएबिटिज क्या है?

बगलों में हो...

बगलों में होने वाली खुजली से कैसे पाएं छुटकारा...

10 ऐसी चीजें...

10 ऐसी चीजें जिन को साफ करना आप भूल रहे हैं...

क्या आप जानत...

क्या आप जानते हैं कि जंक फूड असल में होता...

पोल

आपकी पसंदीदा हिरोइन

वोट करने क लिए धन्यवाद

सारा अली खान

अनन्या पांडे

गृहलक्ष्मी गपशप

उफ ! यह मेकअ...

उफ ! यह मेकअप मिस्टेक्स...

सजने संवरने का शौक भला किसे नहीं होता ? अच्छे कपड़े,...

लाडली को गृह...

लाडली को गृहकार्य...

उस दिन मेरी दोस्त कुमुद का फोन आया। शाम के वक्त उसके...

संपादक की पसंद

प्रेग्नेंसी ...

प्रेग्नेंसी के दौरान...

प्रेगनेंसी में अक्सर हर कोई अपने क्या पहनने क्या नहीं...

क्रेश डाइट क...

क्रेश डाइट के क्या...

क्रैश डाइट क्या होता है और क्या ये इतना खतरनाक है कि...

सदस्यता लें

Magazine-Subscription