जन्नत देखनी है? चोपटा घूम आइए

चयनिका निगम

20th November 2020

हंसी वादियां, ये खुला आसमां, रियल लोकेशन में गाने का मन है तो उत्तराखंड के चोपटा की ओर चल दीजिए।

जन्नत देखनी है? चोपटा घूम आइए
चोपटा...वो नाम है, जहां पहुंच कर आपको ऐसा लग सकता है कि आप किसी तस्वीर के अंदर है। तस्वीर भी वो जिसमें बर्फ और हरियाली साथ में नजर आती है। जहां चारों तरफ फैली बर्फ की चादर आपको जन्नत सा एहसास भी करा सकती है। उत्तराखंड के दिल में बसी ये छोटी सी जगह केदारनाथ वाइल्ड लाइफ सेंचुरी का ही हिस्सा है। ये जगह तुंगनाथ तक ट्रेकिंग के लिए बेस भी है। इस जगह की खूबसूरती का अंदाजा ऐसे भी लगा सकते हैं कि इसकी ऊंचाई बहुत है और यहां लोगों की आवाजाही अभी कम ही है। और यही वजह है कि इस जगह की हवा बहुत ताजा और माहौल बहुत फ्रेश है। यहां आना ऐसा है मानो जन्नत पर कदम रख दिए हों। चोपटा से जुड़ी कई दूसरी बातें आइए जानें-
कैसे आएं-
यहां आने के लिए हवाई यात्रा करनी है तो चोपटा से 226 किलोमीटर दूर बने देहरादून के जॉली ग्रांट हवाई अड्डे से यहां आया जा सकता है। इस हवाई अड्डा में नई दिल्ली के इंदिरा गांधी अंतर्राष्ट्रीय हवाई अड्डे से नियमित उड़ाने आती हैं। जबकि नजदीकी रेलवे स्टेशन की बात करें तो सबसे नजदीकी स्टेशन ऋषिकेश है। हरिद्वार, देहरादून और ऋषिकेश से बस यात्रा भी की जा सकती है। 
कब आएं-
इस जगह आने का सही समय गर्मी और मॉनसून का है। सर्दी के मौसम में यहां आने से बचने की सलाह दी जाती है क्योंकि उस वक्त यहां काफी बर्फ गिरती है। 
पर्वत मालाओं का नजारा-
चोपटा...वो सुंदर जगह है, जहां से आपको कई सारी पर्वत मालाओं के दर्शन भी आसानी से होंगे। यहां से आपको हिमालय भी नजर आएगा। साथ में तीन और पर्वत मालाएं जैसे चौखंबा नन्दा देवी और त्रिशूल की खूबसूरती भी आप देख सकेंगी।  
मिनी स्विजरलैंड है चोपटा-
उत्तराखंड के रूद्रप्रयाग जिले में बनी ये छोटी सी जगह 2680 मीटर की ऊंचाई पर है। मगर इसे मिनी स्विजरलैंड इस वजह से नहीं कहा जाता है बल्कि ऐसा कहे जाने की वजह घास के मैदान हैं, जिन्हें बुग्यल्स भी कहा जाता है। ये बिलकुल वैसे ही हैं, जैसे स्विजरलैंड में हुआ करते हैं। 
सबसे ऊंचाई पर बना शिव मंदिर- 
ये जगह तुंगनाथ मंदिर के लिए भी जानी जाती है। ये मंदिर पूरी दुनिया में सबसे ज्यादा ऊंचाई पर बने शिव मंदिर के तौर पर जाना जाता है। तुंगनाथ माउंटेन रेंज में स्थित ये मंदिर समुद्र के स्तर से 3680  मीटर की ऊंचाई पर बना है। चोपटा से ये जगह सिर्फ 3.5 किलोमीटर दूर है। ये मंदिर हिंदुओं के लिए प्रमुख धार्मिक केंद्र पंच केदार में से एक है। 
रावण के पाप-
पंच केदार की तरफ ट्रेक करने वालों के लिए आधार शिविर बनने वाले चोपटा के बारे में एक कहानी और प्रचलित है। हिंदू पुराणों की मानें तो रावण को जब लगा कि उन्होंने कई पाप किए हैं और अब उनका प्रायश्चित किया जाना चाहिए तो वो इसी मंदिर में आया था। 

कमेंट करें

blog comments powered by Disqus

संबंधित आलेख

मां बनने की ...

मां बनने की मनोकामना पूरी करते तीर्थ

हिमाचल की धर...

हिमाचल की धरती लेकिन है मिनी इजराइल, घूम...

काठमांडू घूम...

काठमांडू घूम लीजिए, दिल खुश हो जाएगा

दाढ़ी-मूंछ वा...

दाढ़ी-मूंछ वाले हनुमान जी के दर्शन कीजिए राजस्थान...

पोल

आपको कैसी लिपस्टिक पसंद है

वोट करने क लिए धन्यवाद

मैट

जैल

गृहलक्ष्मी गपशप

समृद्धिदायक ...

समृद्धिदायक लक्ष्मी...

यू तो लक्ष्मी साधना के हजारों स्वरूपों की व्याख्या...

कैसे करें लक...

कैसे करें लक्ष्मी...

चौकी पर लक्ष्मी व गणेश की मूर्तियां इस प्रकार रखें...

संपादक की पसंद

कैसे दें घर ...

कैसे दें घर को फेस्टिव...

कैसे दें घर को फेस्टिव लुक

घर पर भी सबक...

घर पर भी सबकुछ और...

‘जब से शादी हुई है सिर्फ लाइफ मैनेज करने में ही सारी...

सदस्यता लें

Magazine-Subscription