कोविड-19 के बुनियादी तौर पर 28 लक्षण जिनकी जानकारी आपको होना बहुत जरूरी है

मोनिका अग्रवाल

24th December 2020

कोरोना वायरस का खौफ हर किसी के जहन में हैं। बीते एक साल से पूरी दुनिया इस महामारी के खिलाफ लड़ रही है। जैसे जैसे समय बढ़ रहा है कोरोना वायरस और उससे जुड़े लक्षणों में भी बदलाव हो रहे हैं, जिनपर हम ध्यान नहीं देते।

कोविड-19 के बुनियादी तौर पर 28 लक्षण जिनकी जानकारी आपको होना बहुत जरूरी है

28 लक्षण जिनकी जानकारी आपको होना बहुत जरूरी है

चीन के वुहान से निकला कोरोना वायरस इतना विकराल रूप ले लेगा, किसी ने सोचा भी नहीं था। देश दुनिया के हर एक इंसान के भीतर कोरोना वायरस को लेकर डर है। डर इस कदर लोगों पर हावी हो रहा है कि लोगों एन अपनी जीवन शैली तक बदल डाली। देखा जाए तो कोरोना संक्रमण के मामले तेजी से बढ़ रहे हैं। जहां कई लोगों से इस वायरस से जंग जीती तो वहीं कई लोग अपनी जिन्दगी से हार गये। ऐसे में सरकार की तरफ से कई गाइडलाइन बनाई गयी हैं जिससे ज्यादा से ज्यादा लोग इससे खुद का बचाव कर सकें। शुरुवाती लक्षण से हर कोई वाकिफ होगा। लेकिन कोरोना वायरस के बाद्लते रूप में अब लक्षणों को पहचानना आसान नहीं है। आज का ये लेख इसी विषय पर आधारित है जो आपको कोरोना वायरस से जुड़ी बड़ी से बड़ी और छोटी से छोटी जानकारी आपके बेहद काम आने वाली है। तो चलिए फिर शुरू करते हैं।

1. कितना खतरनाक कोरोना वायरस- कोरोना वायरस कितना खतरनाक है इसके बारे में तो अब तक सभी जान गये होंगे। इस वायरस से संक्रमित लोगों का आंकडा दिन पर दिन बढ़ता ही जा रहा है। कोरोना वायरस के शुरुवाती लक्षणों के बाद भी इसका प्रभाव लम्बे समय तक रहता है। सही समय और सावधानी बरतने से इससे दूरी भी न्बयी जा सकती है।

2. क्या हैं हल्के लक्षण-कोरोना वायरस के शुरुवाती हल्के लक्षणों की बात करें तो इसमें खांसी, जुखाम के साथ सांस लेने में तकलीफ होती है। इन लक्षणों को देखते हुए अब चिकित्सक भी संक्रमितों को होम आइसोलेशन की सलाह देते हैं। लेकिन इसं सबके अलावा कुछ लक्षण ऐसे होते हैं जो लम्बे समय तक रहते हैं, और उन्हें पहचानना जरूरी है।

सांस लेने में समस्या- कोरोना के शुरुवाती लक्षण में सबसे पहले आपको सांस लेने में तकलीफ के साथ सूखी खांसी भी हो सकती है। अगर आपको ऐसा कुछ भी महसूस हो तो डॉक्टर्स से जरुर सम्पर्क करें।

- सूखी खाँसी

- सांस फूलना

दिल से जुड़े लक्षण- कोरोना अपने चरम में है। किसी किसी में तो लक्षण दीखते ही नहीं। और किसी-किसी में लक्षण सबसे अलग होते हैं। उनमें से कुछ लक्षण दिल से सम्बंधित हैं। कार्डिएक पैल्पिटेशन, छाती में दर्द के साथ छाती में जकड़न होती है। कोरोना वायरस के ये वो लक्षण हैं, जिन्हें हम नजरअंदाज कर देते हैं।

-छाती में दर्द

- पैल्पिटेशन

- छाती में जकड़न

न्यूरोलॉजिकल से जुड़े लक्षण- न्यूरोलॉजिकल डिसीज की बात करें तो सर से लेकर दिमाग से जुड़ी समस्याएं शामिल हैं। बात कोरोना संक्रमण से जुड़े लक्षणों की करें तो इसमें सर में दर्द, नींद पूरी ना होना, चक्कर आना जैसी समस्याएं शामिल हैं।

- ब्रेन फ़ॉग

- सोने का अभाव

- सरदर्द

- सिर चकराना

- प्रलाप

- सोने का अभाव

गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल से जुड़े लक्षण- गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल में पेट से जुड़ी समस्याओं का सामना करना पड़ता है। इसमें जी मिचलाना, पेट में दर्द, भूख ना लगना, दस्त आने जैसे लक्षणों का सामना करना पड़ सकता है। अगर आपको भी ये लक्षण हैं तो इन्हें बिलकुल भी अवॉयड ना करें।

- जी मिचलाना

- दस्त

- भूख में कमी

- पेट में दर्द

मस्कुलोस्केलेटल से जुड़े लक्षण- इस तरह के लक्षण हड्डियों और मांसपेशियों में दिखते हैं। अगर आपके घुटनों में और शरीर के अंगों की मांसपेशियों में तकलीफ है तो समझ जाइए कि आपको मस्कुलोस्केलेटल से जुड़े कोरोना वायरस के लक्षण हैं।

- जोड़ों का दर्द

- मांसपेशियों में दर्द

मानसिक लक्षण- बढ़ते समय के साथ अब कोरोना के लक्षण भी बढ़ रहे हैं। कोरोना वायरस के लक्षण में आपको मनोवैज्ञानिक या मानसिक लक्षण भी दिख सकते हैं। इसमें तनाव, चिंता और डिप्रेशन की समस्या हो सकती है।

- डिप्रेशन

- चिंता

ईएनटी से जुड़े लक्षण- बात अगर ईएनटी की करें तो, कोरोना वायरस के लक्षण इसमें भी देखने को मिलते हैं। जहां आपकी सूंघने और स्वाद की क्षमता कम हो जाती हो। इसमें गले में खराश, टोंसिल, कान में दर्द जैसी समस्याओं का सामना करना पड़ सकता है।

- गंध और स्वाद की भावना का नुकसान

- गले में खरास

- टिनिटस

- कान का दर्द

- सिर चकराना

स्किन से जुड़े लक्षण- कोरोना वायरस से जुड़े लक्षणों की बात करें तो इसमें स्किन सम्बन्धित लक्षण भी शामिल हैं। जिसमें लाल चकत्ते, बुखार, दर्द जैसी समस्या होती है।

- चकत्ते अन्य

- थकान

- बुखार

- दर्द

3. जानें क्या है पोस्ट कोविड सिंड्रोम- कोरोना वायरस के परीक्षण के बाद सबसे ज्यादा लक्षणों का सामना करना पड़ सकता है। हालांकि इसमें कोई बड़ी समस्या नहीं है। पोस्ट कोविड सिंड्रोम में शुरू के हल्के लक्षणों से गम्भीर लक्षणों में बदल जाती है। जो बढ़ी गम्भीर समस्या बन सकती है।

विश्वस्तरीय आंकड़ों की बात करें तो हर दस में से दो इंसान में पांच हफ्ते तक या उससे भी ज्यादा समय तक कोरोना वायरस के लक्षण रह सकते हैं। कोरोना वायरस के ऐसे लक्षण भी हैं को 12 हफ्ते से ज्यादा समय तक बने रहते हैं। ऐसे में खुद की सुरक्षा, सावधानी और सतर्कता से कोरोना वायरस से बचाया जा सकता है।

यह भी पढ़ें-

कोविड-19 : ड्राइंग रूम करें सैनिटाइज ,अपनाएं ये टिप्स
कोविड-19 बच्चों का रूम करें सैनिटाइज

कमेंट करें

blog comments powered by Disqus

संबंधित आलेख

कोविड-19 के ...

कोविड-19 के बुनियादी तौर पर 28 लक्षण जिनकी...

सिर में दर्द...

सिर में दर्द क्यों होता है

कोविड-19 के ...

कोविड-19 के बाद दोबारा हो सकते हैं यह 5 लक्षण...

यूरिनरी ट्रै...

यूरिनरी ट्रैक्ट इन्फेक्शन यानि की यूटीआई...

पोल

आपको कैसी लिपस्टिक पसंद है

वोट करने क लिए धन्यवाद

मैट

जैल

गृहलक्ष्मी गपशप

क्या है वो ख...

क्या है वो खास कारण...

क्या है वो खास कारण जिसकी वजह से ब्यूटी कांटेस्ट में...

ननद का हुआ ह...

ननद का हुआ है तलाक,...

आपसी मतभेद में तलाक हो जाना अब आम हो चुका है। कई बार...

संपादक की पसंद

दुर्लभ मगरगच...

दुर्लभ मगरगच्छ के...

रूस की लग्जरी गैजेटस कंपनी केवियर ने सबसे मंहगा हेडफोन...

शिशु की मालि...

शिशु की मालिश के...

बच्चे के जन्म के साथ ही अधिकांश माँए हर रोज शिशु को...

सदस्यता लें

Magazine-Subscription