माता पिता सिर्फ़ बेटे की ज़िम्मेदारी नहीं

मोनिका अग्रवाल

18th August 2020

बच्चों के भरण-पोषण और उनकी देखभाल की जिम्मेदारी माता पिता पर होती है, उसी प्रकार उन मां बाप की वृद्धावस्था में उनका ध्यान रखना बच्चों की जिम्मेदारी होती है चाहे वह लड़का हो या लड़की।

माता पिता सिर्फ़ बेटे की ज़िम्मेदारी नहीं

माता पिता बड़े कष्ट उठाकर अपनी संतान को पालते पोसते हैं और समय समय पर उनकी हर ज़रूरत को पूरा करते हैं.उन्हें इस लायक बनाते है कि वो एक दिन अपने पैरों पर खड़े होकर समाज में अच्छा मुक़ाम हासिल करें.ऐसे में संतान का भी दायित्व है कि वो वृद्धावस्था में अपने परिजनों की हर ज़रूरत का ख्याल रखें. कोई भी संतान अपने माता पिता के प्रति इसे नैतिक दायित्व से भाग नहीं सकता.

विदेशों में तो वृद्ध माता माता को वृद्धाश्रम में भेजने की परम्परा  काफ़ी पुरानी है. वहाँ की सरकार भी इनकी देखभाल का दायित्व अपने ऊपर लेती है.कुछ दम्पत्ति तो स्वेच्छा से अपनी युवावस्था में ही अपना  बुढ़ापा वृद्धाश्रम में बिताने की योजना बना लेते हैं,लेकिन हमारे देश में अभी तक( अपवाद छोड़ कर) माता पिता के देखभाल की ज़िम्मेदारी उसकी संतान पर ही होती है,वो भी बेटे पर.

हमारे समाज में बेटों को ही इसके लिए ज़िम्मेदार बताया जाता है क्योंकि बेटों से वंश आगे बढ़ाता है.कुछ बेटे ख़ुशी से ये दायित्व ,अपने कंधों पर ओढ़ लेते हैं तो कुछ,मजबूरी से ,और कुछ समाज के डर से भी .यहाँ तक कि अदालत द्वारा निर्देश देने पर कुछ बेटों को अपने माँ-बाप को गुज़ारा भत्ता देते देखा गया है.

दूसरे ,इस सोच का कारण,हमारी संस्कृति,और रूढ़िवादी परम्पराएँ भी हैं जिनके तहत,लड़की का घर उसका ससुराल होता है,ना कि मायका.ब्याह के बाद उसे,सब पराया समझते हैं .माता पिता अपनी परेशनियाँ बेटी को बताने से कतराते हैं. सीमित समय तक ही बेटी अपने मायके में रह सकती है.माता पिता का भी बेटी के घर रहना,यहाँ तक कि पानी पीना तक वर्ज़ित माना गया है.शायद इसीलिए ही उसकी ज़िम्मेदारी कम बताई जाती है.

लेकिन ,यह बात कहाँ तक उचित है कि,चाहे बेटे की आर्थिक स्थिति सही न हो या,उसके घर का वातावरण माता पिता को सही लगता हो या न लगता हो फिर भी माँ बाप,घिसट घिसट कर ,मृत्यु पर्यन्तअपना बुढ़ापा बेटे के घर में ही काटे?क्या ये ज़रूरी नहीं है कि,माता पिता की ज़िम्मेदारी ,बेटा और बेटी मिलकर निभाएँ.बल्कि उचित मायनों में तो यह कहना चाहिए कि आज हर क्षेत्र और हर कार्य में ,लड़का लड़की दोनों एक दूसरे से कंधे से कंधा मिलाकर चल रहे हैं और लड़कियाँ किसी भी श्रेणी में लड़कों से कम नहीं हैं चाहे वो सफलता और उन्नति की बात हो या फिर माँ बाप की सेवा करने की.

 ये भी नहीं कि बेटियाँ इस दायित्व से दूर भाग रही हैं. ऐसे कई उदाहरण इस समाज में देखे जा सकते हैं,जिनकी इकलौती लड़कियाँ ही माता पिता के बुढ़ापे में उनके सभी काम करती हैं,बल्कि बेटों से बेहतर.यहाँ तक कि लड़कियाँ अपने माता पिता का ध्यान रखने के लिए विवाह तक नहीं करतीं तो फिर? ऐसी सोच क्यों रखी जाय कि माता पिता की सेवा सिर्फ़ बेटे को ही करनी चाहिए या माता पिता सिर्फ़ उसी की ही ज़िम्मेदारी हैं.?

यह भी पढ़ें-

क्या आप एक पैरेंट के रूप में भावनात्मक रूप से थक चुके हैं

कामकाजी बहू और सास कैसे बिठाए तालमेल

कमेंट करें

blog comments powered by Disqus

संबंधित आलेख

बेटा अपना बह...

बेटा अपना बहू पराई क्यों

'फादर्स डे' ...

'फादर्स डे' स्पेशल: तो इसलिए पापा की लाडली...

मां बनने के ...

मां बनने के बाद मेरी दुनियां ही बदल गई -...

सास सोचे खुद...

सास सोचे खुद के बारे में

पोल

अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस मनाने की शुरुआत किस देश से हुई थी ?

वोट करने क लिए धन्यवाद

इंग्लैण्ड

जर्मनी

गृहलक्ष्मी गपशप

बरसाती संक्र...

बरसाती संक्रमण और...

बारिश में भीगना जहां अच्छा लगता है वहीं इस मौसम में...

खाओ लाल और ह...

खाओ लाल और हो जाओ...

 इसी तरह 'जिनसेंग' जिसके मूल का आकार शिश्न जैसा होता...

संपादक की पसंद

ककड़ी एक गुण ...

ककड़ी एक गुण अनेक...

हममें से ज्यादातर लोग गर्मियों में अक्सर सलाद या सब्जी...

विटामिनों की...

विटामिनों की आवश्यकता...

स्वस्थ शरीर के लिए विटामिन बहुत आवश्यक होता है। इनकी...

सदस्यता लें

Magazine-Subscription