टाइफाइड में रखें खास ख्याल

मोनिका अग्रवाल

11th December 2020

आज के समय में लोगों की लाइफस्टाइल बदल रही है। इस बदलती हुई लाइफस्टाइल में बीमारियों के होने का खतरा भी दोगुनी तेजी से बढ़ रहा है।

टाइफाइड  में रखें खास ख्याल

टाइफाइड में रखें खास ख्याल

आज के समय में लोगों की लाइफस्टाइल बदल रही है। इस बदलती हुई लाइफस्टाइल में बीमारियों के होने का खतरा भी दोगुनी तेजी से बढ़ रहा है। टाइफाइड भी इन्हीं बिमारियों में से एक है। देखा जाए तो टाइफाइड बुखार दुनिया के कई हिस्सों में एक गंभीर मुद्दा है। जो सिरदर्द,  थकान,  पेट दर्द और दस्त सहित कई दुष्प्रभावों का कारण बन सकता है। जहां उपचार में आमतौर पर एंटीबायोटिक दवाओं का उपयोग करना भी जरूरी है। लेकिन बात जब खान-पान की हो तो इसमें कुछ परिवर्तन भी जरूरी है।  जिसकी मदद से आप टाइफाइड के लक्षणों को दूर कर सकते हैं। आज के इस लेख में हम आपको बताएंगे कि, आप टाइफाइड में खुद का ख्याल सही आहार लेकर रख सकते हैं।

1. टाइफाइड बुखार और आहार- टाइफाइड बुखार एक प्रकार का जीवाणु संक्रमण है।  जो आमतौर पर साल्मोनेला टाइफी के साथ दूषित भोजन और पानी की खपत के माध्यम से फैलता है। हालांकि यह विकसित देशों में दुर्लभ है। यह दुनिया भर में एक गंभीर समस्या है। टाइफाइड से हर साल वैश्विक स्तर पर दो लाख से लोगों की मौत भी होती है। टाइफाइड के लक्षणों में बुखार, सिरदर्द, थकान, वजन में कमी, दस्त, पेट में दर्द और भूख में कमी शामिल है। हालांकि आहार में परिवर्तन करने से टाइफाइड बुखार का इलाज नहीं किया जा सकता है, लेकिन  कुछ लक्षणों को कम करने में मदद मिल सकती है।

2. कैसा हो आहार- टाइफाइड में आहार को चुनाव ऐसा हो जिसमें सभी तरह के पोषक तत्व मौजूद हों। बीमारी कोई भी हो, कुछ हद तक हम सही खान-पान और आहार से कुछ हद तक ठीक की जा सकती है। विशेष रूप से अपने आहार में वो चीजें शामिल करें जो पचने में आसान हों और लंबे समय तक चलने वाली ऊर्जा प्रदान करने और गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल मुद्दों से राहत देने में मदद कर सकते हैं।

3. क्या खाएं और क्या नहीं- आपका आहार टाइफाइड बुखार के कारण होने वाले पाचन संकट को कम करने पर केंद्रित होना चाहिए। और ये सुनिश्चित करना भी जरूरी है कि जो आहार आप ले रहे हैं। उसे आपके शरीर को पर्याप्त ऊर्जा मिल रही है या नहीं? उच्च फाइबर खाद्य पदार्थ पचाने में मुश्किल हो सकते हैं। इसमें कच्चे फल और सब्जियां, साबुत अनाज, नट, बीज और फलियां जैसे खाद्य पदार्थ शामिल होते हैं। इसलिए ऐसे आहार से पहरेज करें। इसके बजाय, आपको खाद्य पदार्थों को अच्छी तरह से पकाना चाहिए। डिब्बाबंद या बीज रहित फलों का चयन करना चाहिए।

4. पानी की ना हो कमी- अगर आप या आपसे जुड़ा कोई भी व्यक्ति टाइफाइड से ग्रसित है तो ध्यान रखें कि भूलकर भी शरीर में पानी की कमी ना रहे। हालांकि टाइफाइड बुखार बैक्टीरियल संदूषण के कारण होता है। अगर आप ऐसे क्षेत्र में हैं जहां टाइफाइड बुखार आम है, तो बोतलबंद पानी चुनें और ठंडा पानी के साथ बर्फ के साथ पेय पदार्थों को नजरअंदाज़ करें। आप उबला हुआ पानी पियेंगे तो आपके स्वस्थ्य के लिए बेहतर होगा।

5. साफ़-सफाई का ख्याल भी जरूरी- बीमारी टाइफाइड की या कोई अन्य, साफ़ सफाई का ध्यान विशेष रूप से रखना चाहिए। अगर हमें कोई बिमारी नहीं भी है, और हम साफ़ सफाई नहीं रखते तो तकिन मानिये कि, हम जल्द बीमार पड़ सकते हैं। इसके लिए अपने आस-पास साफ-सफाई रखें। अपने हाथों को नियमित रूप से धोना सुनिश्चित करें। सभी उपज को अच्छी तरह से धो लें। कच्चे मांस, कच्ची मछली, और डेयरी उत्पादों को भी साफ़ करके इस्तेमाल करें।

टाइफाइड बुखार एक जीवाणु संक्रमण है जो, कई प्रकार के दुष्प्रभावों का कारण बन सकता है। अपने आहार में संशोधन करने से कुछ लक्षणों में राहत मिल सकती है। लेकिन आप अपने डॉक्टर के परामर्श के बिना कोई भी ऐसा आहार न लें, जो मुसीबत का सबब बन जाए। अपने आहार में थोड़ा सा बदलाव और साफ़-सफाई आपको टाइफाइड से बचा सकता है।

यह भी पढ़ें-

क्या आपकी बच्ची स्पेशल चाइल्ड है, बच्ची की महावारी, आपकी जिम्मेदारी

कैसी डाइट ले रहे हैं आप? क्या यह आपके लिए सही है

 

कमेंट करें

blog comments powered by Disqus

संबंधित आलेख

यूरिनरी ट्रै...

यूरिनरी ट्रैक्ट इन्फेक्शन यानि की यूटीआई...

बच्चों में स...

बच्चों में सबसे आम 5 बीमारियां क्या हैं

क्यों और कैस...

क्यों और कैसे होता है वायरल बुखार

जानिए घर में...

जानिए घर में बदबू फैलने की 10 वजहें

पोल

आपको कैसी लिपस्टिक पसंद है

वोट करने क लिए धन्यवाद

मैट

जैल

गृहलक्ष्मी गपशप

रम जाइए 'कच्...

रम जाइए 'कच्छ के...

गुजरात का कच्छ इन दिनों फिर चर्चा में है और यह चर्चा...

घट-कुम्भ से ...

घट-कुम्भ से कलश...

वैसे तो 'कुम्भ पर्व' का समूचा रूपक ज्योतिष शास्त्र...

संपादक की पसंद

मां सरस्वती ...

मां सरस्वती के प्रसिद्ध...

ज्ञान की देवी के रूप में प्राय: हर भारतीय मां सरस्वती...

लोकगीतों में...

लोकगीतों में बसंत...

लोकगीतों में बसंत का अत्यधिक माहात्म्य है। एक तो बसंत...

सदस्यता लें

Magazine-Subscription