मेनोपॉज के लक्षणों को कम करने के लिए 11 प्राकृतिक तरीके

मोनिका अग्रवाल

2nd January 2021

मेनोपॉज यानी पीरियड्स का बंद होना हर महिला में स्वाभाविक रूप से बदलाव होता है। कभी-कभी समय से पहले ही महिलाओं को मेनोपॉज का सामना करना पड़ता है। जिससे बचने के लिए महिलाएं प्राकृतिक सप्लीमेंट का इस्तेमाल करना ही सही है।

मेनोपॉज के लक्षणों को कम करने के लिए 11 प्राकृतिक तरीके

मेनोपॉज के लक्षणों को कम करने के लिए प्राकृतिक तरीके

महिलाओं में मेनोपॉज 50 की उम्र तक आने तक होने लगता है। हालांकि ये एक स्वाभाविक बदलाव होता है जो हर महिला को झेलना पड़ता है। इस दौरान कम से कम दो तिहाई महिलाएं मेनोपॉज के लक्षणों को झेलती हैं। जिससे उन्हें रात के समय पसीना, चिड़चिड़ापन और थकान हो सकता है। इसके अलावा मेनोपॉज महिलाओं में ऑस्टियोपोरोसिस, मोटापा, दिल की बिमारी, टाइप-2 मधुमेह सहित कई बीमारियों का खतरा बढ़ जाता है।ऐसे में आर्टिफिशियल सप्लीमेंट लेने की जगह अगर आप प्राकृतिक तौर पर अपना ख्याल रखेंगी तो आपको ज्यादा फायदा मिलेगा। आज हम आपको अपने इस खास लेख के जरिये बताएँगे की मेनोपॉज के लक्षणों को कम करने के तरीके। तो चलिए फिर शुरू करते हैं।

1. खाएं हेल्थी खाना- मेनोपॉज के लक्षण कभी-कभी जान का खतरा तक बन सकता है। ऐसे में इनके लक्षणों को कम करने के लिए आप अपने खाने में कैल्शियम और विटामिन डी की भरपूर मात्रा शामिल करें। अक्सर मेनोपॉज के दौरान हार्मोनल चेंज होते हैं और उससे हड्डियों में कमजोरी हो जाती है। जिससे ऑस्टियोपोरोसिस का खतरा बढ़ जाता है। कैल्शियम और विटामिन डी हड्डियों को मजबूती देता है। इसलिए आपके आहार में इन पोषक तत्वों का पर्याप्त मात्रा में होना जरूरी है। आप डेयरी उत्पाद जैसे दही, दूध और पनीर का सेवन करें। हरी पत्तेदार सब्जियां, टोफू, बीन्स भी खा सकती हैं। साथ ही विटामिन डी के लिए धूप जरुर लें।

2. वजन रखें नियंत्रित- मेनोपॉज के दौरान अक्सर महिलाओं का वजन बढ़ने लगता है। जो आम तौर पर स्वाभाविक है। शरीर का बढ़ता वजन आपके लिए नुक्सान दायक हो सकता है। इससे आपको दिल की बिमारी और डायबटीज का खतरा बढ़ जाता है। इसलिए आप अपना वजन नियंत्रित रखें। 

3. खाएं फल और सब्जियां- फलों और सब्जियों को अपने आहार में भरपूर मात्रा में शामिल करें। इससे आपको मेनोपॉज के लक्षणों को रोकने में मदद मिलेगी। शोध के मुताबिक फल और सब्जियों में कैलोरी कम होती है। जिससे वजन बढ़ता नहीं है। और अगर वजन बढ़ा है तो वो कम होने लगता है। आपको दिल से जुड़ी बीमारियां भी नहीं होंगी। फल और सब्जियां खाने से हड्डियां कमजोर नहीं होती। भी हड्डियों के नुकसान को रोकने में मदद कर सकती हैं।

4. मसालेदार खाने से बनाए दूरी- कुछ खाद्य पदार्थ खाने से आपको रात के समय पसीना और परेशानी बढ़ा सकते हैं। आम तौर पर कैफीन, शराब भी इस श्रेणी में शामिल होते हैं। मेनोपॉज के लक्षणों को कम करने के लिए आपको इस बात का ख्याल रखना होगा कि आप ऐसा कुछ भी खाएं जो आपके लिए परेशानी का सबब बन जाए। इस लिए उनसे बचने की कोशिश करें।

5. करें नियमित व्यायाम- मेनोपॉज के लक्षणों को कम करने के लिए नियमित रूप से व्यायम करना जरूरी है। हालांकि नियमित व्यायाम आपको कई तरह के रोगों से भी आराम देता है। इससे शरीर में ऊर्जा बनी रहती है। अच्छे स्वास्थ्य और हड्डियों के साथ तनाव में कमी और बेहतर नींद आती है। शोध के मुताबिक रोज व्यायाम करने से मेनोपॉज से जूझ रही महिलाओं के समूह में शारीरिक और मानसिक स्वास्थ्य में सुधार भी हुआ है।

6. ऐसे करें हार्मोन को संतुलित- मेनोपॉज में महिलाओं के शरीर में कई हार्मोनल बदलाव होते हैं।  ऐसे में सबसे पहले आपको अपने हार्मोन को संतुलित रखना होगा। जिससे इसके लक्षणों को कम करने में मदद भी मिलेगी। ऐसे में फाइटोएस्ट्रोजेन को शामिल करें। फाइटोएस्ट्रोजेन वे हार्मोन को संतुलित करने में मदद कर सकते हैं। फाइटोएस्ट्रोजेन से भरपूर खाद्य पदार्थों में सोयाबीन और सोया उत्पाद, टोफू, टेम्पेह, फ्लैक्ससीड्स, अलसी, तिल और सेम शामिल हैं। 

7. पिएं पर्याप्त पानी- पानी हमारे शरीर के लिए बेहद जरूरी है। मेनोपॉज के दौरान महिलाओं को अक्सर सूखापन का अनुभव होता है। यह एस्ट्रोजन के स्तर में कमी के कारण होता है। इसके लिए आप दिन में 8-12 गिलास पानी पीने की कोशिश करें। पानी भी हार्मोनल परिवर्तन के साथ होने वाली सूजन को कम कर सकता है। खाने से 30 मिनट पहले पानी पीजिये।

8. कार्ब्स और चीनी का करें ज्यादा सेवन- मेनोपॉज के लक्ष्ण को कम करने के लिए कार्ब्स और चीनी से भरे आहार का सेवन ना करें। उच्च आहार रक्त शर्करा में तेज वृद्धि और गिरावट का कारण बन सकता है, जिससे आप थका हुआ और चिड़चिड़ा महसूस करते हैं।

9. खाने से ना करें इंकार- अगर आप मेनोपॉज से गुजर रही हैं तो नियमित रूप से खाना जरुर खाएं। अनियमित खाने से मेनोपॉज के कुछ लक्षण बढ़ सकते हैं। 

10. करें प्रोटीन युक्त भोजन- प्रोटीन खाना शरीर के लिए बेहद लाभदायक होता है। जिससे मांसपेशियां हेल्दी रहती हैं। शोध के मुताबिक प्रोटीन से मांसपेशियों के नुकसान को रोकने में मदद करने के अलावा, उच्च-प्रोटीन आहार वजन घटाने में मदद कर सकते हैं। प्रोटीन से भरपूर खाद्य पदार्थों में मांस, मछली, अंडे, फलियां, नट और डेयरी शामिल हैं।

11. लें नेचुरल सप्लीमेंट- कई महिलाएं अपने मेनोपॉज के लक्षणों को दूर करने के लिए गोलियां और दवाइयों का सेवन करने लगती हैं। इसके लिए आप डॉक्टर से सलाह लें। अच्छा होगा यदि आप प्राकृतिक उत्पादों और उपायों का सहारा लें। जिसके लिए आप अपने जानकार चिकित्सक से सलाह ले सकते हैं।

मेनोपॉज एक बीमारी नहीं है। हर महिला के जीवन का ये अहम हिस्सा है। हालांकि इसके लक्षणों से निपटना कभी-कभी मुश्किल हो सकता है। अपनी दिनचर्या में खाने और नियमित रूप से व्यायाम करने से इन लक्षणों को कम करने में मदद मिल सकती है। मेनोपॉज के दौरान आप हमारी बताई हुई टिप्स और सुझाव का इस्तेमाल कर सकती हैं।

 

यह भी पढ़ें-

डार्क चॉकलेट खाने के 7 स्वास्थ्य लाभ

कोरोना का नया स्ट्रेन वायरस जिसने एक बार फिर पूरी दुनिया में दहशत फैला दी

गायनेकोलॉजिस्ट के पास जाने से पहले ध्यान में रखें यह 8 बातें

कमेंट करें

blog comments powered by Disqus

संबंधित आलेख

कहीं वजन बढ़...

कहीं वजन बढ़ने के पीछे आपके हारमोंस तो नहीं...

एक हफ्ते में...

एक हफ्ते में कितना वजन कम किया खुद से करें...

महिलाओं को ब...

महिलाओं को बार-बार पेशाब आने का कारण

वजन घटाने के...

वजन घटाने के लिए आसान और सरल 20 उपाय

पोल

आपको कैसी लिपस्टिक पसंद है

वोट करने क लिए धन्यवाद

मैट

जैल

गृहलक्ष्मी गपशप

रम जाइए 'कच्...

रम जाइए 'कच्छ के...

गुजरात का कच्छ इन दिनों फिर चर्चा में है और यह चर्चा...

घट-कुम्भ से ...

घट-कुम्भ से कलश...

वैसे तो 'कुम्भ पर्व' का समूचा रूपक ज्योतिष शास्त्र...

संपादक की पसंद

मां सरस्वती ...

मां सरस्वती के प्रसिद्ध...

ज्ञान की देवी के रूप में प्राय: हर भारतीय मां सरस्वती...

लोकगीतों में...

लोकगीतों में बसंत...

लोकगीतों में बसंत का अत्यधिक माहात्म्य है। एक तो बसंत...

सदस्यता लें

Magazine-Subscription