क्यों होता है महिलाओं के मूड और व्यवहार में पल पल बदलाव

मोनिका अग्रवाल

9th April 2021

किसी ने सच ही कहा है कि महिलाओं को समझना नामुमकिन है। महिलाओं के मूड और उनके व्यवहार में पल पल बदलाव आने का भी कारण है, जो हार्मोनल के असंतुलित के कारण के साथ साथ समान्य कारण भी होते हैं।

क्यों होता है महिलाओं के मूड और व्यवहार में पल पल बदलाव

महिलाओं के मूड और व्यवहार में पल पल बदलाव

महिलाओं में  सबसे ज्यादा होर्मोनल असंतुलन की समस्या होती है। जिस वजह से महिलाओं के मूड और उनके मिजाज में बार बार बदलाव आता रहता है। महिलाएं अक्सर ऐसी समस्याओं का सामना करती हैं, जो उन्हें शारीरिक और मानसिक दोनों ही तरह से प्रभावित करती हैं। इस बात का अंदाजा कोई भी नहीं लगा सकता कि महिलाओं का मूड कब बदल जाए। अकसर हंसते बोलती हुई महिलाओं का मूड एक दम से बदल जाता है, और वो किसी ना किसी बात को लेकर चिढ़ने लगती हैं, और उन्हें गुस्सा आने लगता है। महिलाओं का ये मिजाज उनके शरीर में हो रहे हार्मोनल परिवर्तन या उनके द्वारा अपनाई जा रही लाइफस्टाइल में लापरवाही की वजह से हो सकती है। नोएडा स्थित मदर हुड हॉस्पिटल की वरिष्ठ सलाहकार प्रसूति एवं स्त्री रोग विशेषज्ञ डॉक्टर मंजू गुप्ता ने खास इसी विषय पर ऐसी जानकारी दी है, जिसके बारे में आपको भी पता होना चाहिए। ये जानकारी क्या है, आइये जानते हैं।

1. पीरियड्स से पहले मूड  बदलना- ये एक तरह का ऐसा सिंड्रोम है यो पीरियड्स से दो या तीन हफ्ते पहले होता है। इस अवधि में महिलाओं के मूड में काफी बदलाव देखने को मिलता है। साथ ही उन्हें थकान, सूजन और तनाव की समस्या का भी सामना करना पड़ता है। ये काफी आम बात है। शोध के मुताबिक 90 फीसदी महिलाएं इसका अनुभव करती हैं। हालांकि महिलाओं में इसके लक्षण भी अलग अलग होते हैं। जो धीरे धीरे उम्र के साथ सही होते जाते हैं। पीरियड्स से पहले ये समस्या क्यों होती है इस पर अभी कोई भी प्रतिक्रिया किसी भी विशेषज्ञ ने नहीं दी है। कई लोगों का मानना है कि महिलाओं के शरीर में एस्ट्रोजन के स्तर में बदलाव होने की वजह से ही उनके मूड और व्यवहार में भी बदलाव होते हैं।

2. टेंशन भी है वजह- डॉक्टर मंजू गुप्ता की मानें तो विकसित और विकासशील देशों की तुलना में हमारे देश में टेंशन का स्तर काफी ज्यादा है। और इस बात का जिक्र रिपोर्ट में भी किया गया है। भरत में 89 से 90 प्रतिशत आबादी किसी न किसी तनाव से गुजर रही है। टेंशन की वजह से हेल्थ काफी प्रभावित होती है। जिसका साफ़ तौर पर असर मूड में भी नजर आने लगता है। इसका असर महिलाओं में सबसे ज्यादा होता है। क्योंकि महिलाएं पर्सनल और प्रोफेशनल दोनों ही लाइफ के बीच संतुलन बनाए रखने की कोशिश में रहती हैं।

3. हार्मोन्स में असंतुलन- महिलाओं में अक्सर एस्ट्रोजेन के स्तर में काफी उतार चढ़ाव देखे जाते हैं। जिसकी वजह से मूड काफी ज्यादा प्रभावित होता है।  एस्ट्रोजन के अलावा अन्य हार्मोन भी महिलाओं के मूड में उतार चढ़ाव का कारण बनते हैं। 

4. यौवन- महिलाओं में यौवन के दौरान उनके मूड में कई तरह के उतार चढ़ाव भी देखे जाते हैं। इस वजह से उम्र में बदलाव के साथ शारीरिक बदलाव भी होते हैं। जिससे मनोदशा में भी काफी बदलाव आते हैं। ये बदलाव अनियमित और आम होते हैं।

5. मोनोपॉज- अगर कोई महिला मोनोपॉज के दौर से गुजर रही है तो उसके व्यवहार में कई तरह के बदलाव देखे जाते हैं जो आम हैं। ऐसे में महिलाएं कई तरह की चीजें फेस करती हैं, जिसमें सेक्स ड्राइव कम होना, अनिद्रा और तनाव जैसे कई कारण होते हैं। आप चाहे तो इस बदलते हुए मिजाज का इलाज भी कर सकती हैं, वो इलाज क्या है ये भी जान लीजिये।

• हर रोज 30 से 40 मिनट का व्यायाम जरुर करें।

• मादक पदार्थों का सेवन बिलकुल भी ना करें।

• तनाव से दूरी बनाए रखने  के लिए आहार में विटामिन सी शामिल करें।

• दिन में कई बार थोड़ी थोड़ी मात्रा में भोजन करें, इससे मूड स्थिर रहता है।

• कम से कम आधे घंटे की नींद लें।

महिलाओं के मूड और उनके व्यवहार के बारे में कुछ भी कहना जायज नहीं होगा। क्योंकि उनका मूड हर मिनट में बदलता रहता है। आप अपने मूड को ठीक रखने के लिए उनके द्वारा बताई हुई टिप्स को आजमा सकती हैं। जो आपके काफी काम आएगी।

यह भी पढ़ें-

 

अनोखे 13 तरह के कज़िन्स 

डॉल्फिन मॉम- पेरेंटिंग स्टाइल 

5 जरूरी टिप्स ब्यूटी कॉन्टेस्ट जीतने की राह को बनाएंगे आसान

नोएडा स्थित मदर हुड हॉस्पिटल की वरिष्ठ सलाहकार प्रसूति एवं स्त्री रोग विशेषज्ञ डॉक्टर मंजू गुप्ता

स्वास्थ्य संबंधी यह लेख आपको कैसा लगा? अपनी प्रतिक्रियाएं जरूर भेजें। प्रतिक्रियाओं के साथ ही स्वास्थ्य से जुड़े सुझाव व लेख भी हमें ई-मेल करें- editor@grehlakshmi.com

 

कमेंट करें

blog comments powered by Disqus

संबंधित आलेख

प्रीमेंस्ट्र...

प्रीमेंस्ट्रूअल सिंड्रोम के लक्षण

क्यों बच्चे ...

क्यों बच्चे के जन्म के बाद कम हो जाती है...

ऐसी वजहें जि...

ऐसी वजहें जिसके चलते आप का सेक्स करने का...

महिलाओं में ...

महिलाओं में चिंता, तनाव या स्ट्रेस

पोल

अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस मनाने की शुरुआत किस देश से हुई थी ?

वोट करने क लिए धन्यवाद

इंग्लैण्ड

जर्मनी

गृहलक्ष्मी गपशप

चित्त की महत...

चित्त की महत्ता...

श्री गुरुदेव की कृपा के बिना कुछ भी संभव नहीं। अध्यात्म...

तुम अपना भाग...

तुम अपना भाग्य फिर...

एक बार ऐसा हुआ कि पोप अमेरिका गए, वहां पर उनकी कई वचनबद्घताएं...

संपादक की पसंद

शांति के क्ष...

शांति के क्षण -...

मानसिक शांति के अत्यन्त सशक्त क्षण केवल दुर्बल खालीपन...

सुख खोजने की...

सुख खोजने की कला...

एक महिला बोली : मुनिश्री! मैं बड़ी दु:खी हूं। यों तो...

सदस्यता लें

Magazine-Subscription